blogid : 2222 postid : 714686

ठहर बयरिया फागुनी

Posted On: 11 Mar, 2014 Others में

MERI NAJARJust another weblog

rameshbajpai

78 Posts

1604 Comments

कागा मोरे आँगना सगुन मनाओ आय |
मन पाहुन परदेश से घर जल्दी आ जाय |

ठहर बयरिया फागुनी छिलति मोरे गात |
भरी अगिनि री देह में मन रहि रहि सिसियात |

फागुन आया गांव में महुवा महका बाग |
बिना कन्त कस फगुना,कस होरी कस फाग | |

कागा रे उड़ि चलो जाव पिया के पास |

मोर संदेसा दई कहेव फागुन मिलन पियास

फागुन का दुष्कर विरह नयी नवेली नारि |
धवल चांदनी करि रहीं, रहि-रहि मो सौ रारि|

( कान्त -पिया , रारि – शरारत )


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग