blogid : 2222 postid : 743753

प्यार को लघु जिंदगी

Posted On: 21 May, 2014 Others में

MERI NAJARJust another weblog

rameshbajpai

78 Posts

1604 Comments

कुछ खबर अपनी सुनाओ

हाल अपना तुम बताओ

ग्रीष्म में सूखी हुयी सी

पास बहती वह नदी |

नियति से बन दो किनारे

पास होकर दूर है

इस तरह रहते दिलो में

न दुआ न बंदगी |

वक्त की चादर तले

ढक गए वह भाव मीठे

तिक्तता ही तैरती है

प्रेम की सूखी नदी |

मन के आँगन में उतरना

चाहती है यादे मधुर

रोक करउनको खडी है

आज रिश्तो की बदी |

डोर उलझी इस कदर

अब तो पराये गांव में

नफरतो की ईमारत

हो रही है जिंदगी |

रुठने को दुनिया पड़ी है

भूलना बस यह कड़ी है

वक्त है तो सोच लेना

प्यार को लघु जिंदगी |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग