blogid : 2222 postid : 736307

मौन हो मुझको पुकारा

Posted On: 26 Apr, 2014 Others में

MERI NAJARJust another weblog

rameshbajpai

78 Posts

1604 Comments

तुम प्यार का घट मधुर शीतलता लिये |

प्यास का मै उष्ण मरुथल प्रिये |

जलज पत्ते पर पड़ी ,तुम ओस की बूंदो सरीखी |

औदार्य की माधुर्य की ,तुम झील हो मीठी |

तृप्ति की तुम झिलमिलाती प्यारी किरन |

मरीचिका में फंसा मै प्यास से ब्याकुल हिरन |

तुम ज्योत्स्ना से नहायी भावनाओ की छाँव |

मै भटकता ढूढ़ता हूँ प्रिये तेरा गांव |

मै पपीहे सा पिय – पियू रटता रहा |

स्वाति का अमृत कलस अन्यत्र झरता रहा |

बिरह का मै हूँ बवंडर ,सिंधु का मै जल हूँ खारा |

हाय फागुन मास में तुमने मुझे कुछ यूँ पुकारा |

नेह को आतुर नयन पा गए कुछ यूँ किनारा |

बोलती उस दृष्टि ने जब मौन हो मुझको पुकारा |

[ प्रवास की वजह से फागुन की रचनाये पोस्ट नहीं कर पाया अतः कुछ पोस्टो में ही सब समेटने का प्रयास कर रहा हूँ ]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग