blogid : 18968 postid : 1308882

निस्पृहता

Posted On: 22 Jan, 2017 Others में

अनथक Just another Jagranjunction Blogs weblog

rampalsrivastava

34 Posts

3 Comments

birdनिस्पृहता मनुष्य का एक बड़ा गुण है , जो उच्च आचरण का मार्ग प्रशस्त करता है | रहीम जी का इसी भाव का एक दोहा है — ”चाह गई चिंता मिटी, मनुआ बेपरवाह । जिनको कछु नहि चाहिये, वे साहन के साह | ” कहने का तात्पर्य यह कि जिन्हें कुछ नहीं चाहिए वे राजाओं के राजा हैं, क्योंकि उन्हें न तो किसी चीज की चाह है, न ही चिंता और मन तो बिल्कुल बेपरवाह है।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग