blogid : 11532 postid : 773193

डॉक्टर साहब

Posted On: 12 Aug, 2014 Others में

AKSHARJust another weblog

Ravinder kumar

21 Posts

196 Comments

डॉक्टर साहब
आप भगवान हो
लेकिन आपका कृपाप्रसाद पाने को
हमें टटोलना पड़ता है
घर के हर कोने को
बच्चों के गुल्लक से लेकर
मंदिर तक
कितने ही मजबूर हैं
घर खेत यहाँ तक के मंगलसूत्र
बेचने को
आप मुझे अपने सामने
बैठाते हो
पर पता नहीं क्यों
समझ नहीं पाते मेरे हालात
कानों से लटकते आले को
मेरे दिल से लगाते तो हो
पर पता नहीं क्यों
समझ नहीं पाते
दिल का दर्द
मेरी आँखें तलाशती हैं
आपकी आखों में मेरे लिए संवेदना
पर आप एक मशीन की तरह
पुर्जा लिखने लगते हो
मैं उस पुर्जे को ऐसे देखता हूँ
जैसे सब पढ़ पाऊंगा
लेकिन तभी आप मुझे
बाहर का रास्ता दिखाते हो और कहते हो
नेक्स्ट
मैं शरीर से टूटा हुआ
मन से लाचार
जेब को टटोलते हुए
पुर्जे को थामे
घर की और चल पड़ता हूँ
ताकि
हो सके दवाइयों की व्यवस्था

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग