blogid : 27421 postid : 6

ओ 'ईर्ष्या'

Posted On: 1 Mar, 2020 Common Man Issues में

My Poems & Write upsJust another Jagranjunction Blogs Sites site

ravindrak

2 Posts

1 Comment

ईर्ष्या हर इंसान के जीवन में
एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.
हमें यह गुण विरासत में मिलता है,
कभी कम कभी बहुत ज्यादा रूप में
एक प्राकृतिक वृत्ति के रूप में।

 

 

ओ ‘ईर्ष्या’
तुम कितनी अद्भुत हो,
तुम कैसे बो और रोप देती हो
मनुष्यों में अक्सर,
घृणा और नफरत के बीज,
कितनी गहराई से,
कि मासूम सा ह्रदय
खोने लग जाता है,
मित्रता, प्रेम और
सहानुभूति, बस देखते-देखते
तुम्हारे आकर्षण
की लुभावनी कला के
सम्मोहन में.

 

 

 

नोट : यह लेखक के निजी विचार हैं और इसके लिए वह स्‍वयं उत्‍तरदायी हैं।

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग