blogid : 19157 postid : 793004

एक मंदिर जहाँ बहती है घी की नदी

Posted On: 9 Oct, 2014 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

700 Posts

132 Comments

मंदिरों में देवताओं को फूल सब चढ़ाते हैं. भक्त अपने सामर्थ्य के अनुसार फलों से लेकर दूध और स्वर्ण मुद्राएँ तक चढ़ाते हैं. परंतु गुजरात के गाँधीनगर के इस मंदिर में एक ऐसी महँगी तरल पदार्थ चढ़ाई जाती है जिसे खरीदने के लिए जेबें करनी पड़ती है ज्यादा ढ़ीली.




8WWoyyB

गुजरात के गाँधीनगर में रूपल नाम का एक गाँव हैं. नवरात्रि की नवमी को यहाँ लकड़ी से बनी एक रथ को पूरे गाँव में घुमाया जाता है. वहाँ ऐसी मान्यता है कि यह रथ वरदायिनी होती है. इस रथ पर बने साँचे में पाँच स्थानों पर अखंड ज्योति जलाई जाती है. इस रथ को देखने के लिए इतनी भीड़ होती है कि गाँव से मुख्य मंदिर तक पहुँचने में रथ को करीब 10 घंटे लग जाते हैं.


Read: मंदिर में जाने से पहले आखिर क्यों बजाते है घंटी !!


इस रथ पर माता के दर्शन करने वाले ग्रामीण अपने सामर्थ्य के अनुसार शुद्ध घी चढ़ाते हैं. रथ पर घी चढ़ाने का एक और कारण यह है कि इस रथ को जमीन से छूने ना दिया जाए जिसे अशुद्ध माना जाता है.


Read: देश का ऐसा मंदिर जहां भगवान को प्रसाद में नूडल्स चढाया जाता हैं


इस वर्ष नवमी के दिन करीब 11 लाख लोगों ने इस रथ पर माता के दर्शन किए. घी की नदी बहाने में इस बार भी यहाँ के लोग पीछे नहीं रहे. भक्तों ने करीब 5.5 लाख किलो घी चढ़ावे के रूप में चढ़ाया. चढ़ाए गए घी की कीमत करीब 16 करोड़ रूपए आँकी गई.


Read:

जानें मंदिर और मस्जिद के गुंबद का क्या है रहस्य

क्या है इस रंग बदलते शिवलिंग का राज जो भक्तों की हर मनोकामना पूरी करता है?

पापियों का संहार करने आए हैं हनुमान! कलियुग में यह चमत्कार आपको हैरान कर देगा


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग