blogid : 19157 postid : 1388199

साधु-संत इन 5 रंगों के धारण करते हैं वस्त्र, जानें इनका क्या है अर्थ

Posted On: 16 Jul, 2019 Spiritual में

Pratima Jaiswal

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

793 Posts

132 Comments

रंगों में भी एक अर्थ छुपा होता है जिनसे हमारा जीवन प्रभावित होता है. जैसे जब हम किसी उत्सव में जाते हैं तो गहरे रंग के कपड़े पहनकर जाते हैं जबकि किसी शोक सभा या दुख की घड़ी में हल्के या सफेद रंग के कपड़े पहनते हैं. इसी तरह हम अपने आसपास ऐसे कई साधु-संत भी देखते हैं जो एक विशेष रंग के कपड़े ही धारण करते हैं. क्या आप जानते हैं विभिन्न रंगों के वस्त्र धारण करने के पीछे क्या रहस्य होता है. आइए, हम आपको बताते हैं.
सफेद रंग : संन्यास की शुरुआत में पहली और महत्वपूर्ण प्रक्रिया है ब्रह्मचर्य और पवित्रता की दीक्षा. इस प्रक्रिया से गुजरने वाले को सफेद वस्त्र प्रदान किए जाते हैं. सफेद अर्थात बेदाग रंग. साधक को ध्यान रखना पड़ता है कि उस पर कहीं कोई दाग अथवा कलंक न लगने पाए.
पीला रंग : पीला रंग दया, क्षमा और करुणा का प्रतीक है. पृथ्वी का रंग भी पीला है. पृथ्वी और संत को सबसे अधिक सहनशील माना गया है. वैज्ञानिकों ने भी सिद्ध किया है कि पृथ्वी का रंग पीला है. इस अवधि में भिक्षाटन आदि के दौरान संन्यासी को लोगों की उपेक्षाएं और ताने भी सहने पड़ते हैं, लेकिन वह सबको क्षमा कर देता है.
लाल रंग : इन उपेक्षाओं को सहने के बाद गुरु संन्यासी को साधु बनाता है. अर्थात ऐसा माना जाता है कि वह साधना के योग्य हो गया है. तब उसे लाल वस्त्र प्रदान किए जाते हैं. लाल रंग क्रोध, खतरे और ‍अग्नि का प्रतीक है. लाल रंग का अर्थ है परिचित और अन्य लोग उस संन्यासी से दूर रहें. यदि उसकी साधना भंग होगी तो उसे क्रोध आएगा और वह चिमटा और त्रिशूल लेकर दौड़ पड़ेगा.
काला रंग : साधना पूर्ण होने पर संन्यासी काले वस्त्र धारण करता है. काला रंग सभी रंगों का मिश्रण है, इसमें कुछ और नहीं मिलाया जा सकता. यह पूर्णता और परम पवित्रता का प्रतीक है. दैवत्व की पराकाष्ठा का भी रंग है यह. अज्ञानता और मूर्खतावश लोगों ने इसे भय और अपशकुन का रंग मान लिया. दरअसल, काला रंग संतत्व, श्रेष्ठता और पूर्णत्व का रंग है.
भगवा रंग : शास्त्रों का मत है कि भगवा पहनने के बाद लकड़ी की औरत का भी स्पर्श नहीं होना चाहिए. भगवा पहनकर आप समाज में नहीं जा सकते. भगवा वैराग्य की पराकाष्ठा है, चरम है. वर्तमान में भगवा की गरिमा का ध्यान नहीं रखा जा रहा है.

रंगों में भी एक अर्थ छुपा होता है, जिनसे हमारा जीवन प्रभावित होता है। जैसे, जब हम किसी उत्सव में जाते हैं, तो गहरे रंग के कपड़े पहनकर जाते हैं जबकि किसी शोक सभा या दुख की घड़ी में हल्के या सफेद रंग के कपड़े पहनते हैं। इसी तरह हम अपने आसपास ऐसे कई साधु-संत भी देखते हैं, जो एक विशेष रंग के कपड़े ही धारण करते हैं। क्या आप जानते हैं कि विभिन्न रंगों के वस्त्र धारण करने के पीछे क्या रहस्य होता है। आइए हम आपको बताते हैं-

 

PTI1_10_2013_000087B

 

सफेद रंग : संन्यास की शुरुआत में पहली और महत्वपूर्ण प्रक्रिया है ब्रह्मचर्य और पवित्रता की दीक्षा। इस प्रक्रिया से गुजरने वाले को सफेद वस्त्र प्रदान किए जाते हैं. सफेद अर्थात बेदाग रंग। साधक को ध्यान रखना पड़ता है कि उस पर कहीं कोई दाग अथवा कलंक न लगने पाए।

पीला रंग : पीला रंग दया, क्षमा और करुणा का प्रतीक है. पृथ्वी का रंग भी पीला है। पृथ्वी और संत को सबसे अधिक सहनशील माना गया है। वैज्ञानिकों ने भी सिद्ध किया है कि पृथ्वी का रंग पीला है। इस अवधि में भिक्षाटन आदि के दौरान संन्यासी को लोगों की उपेक्षाएं और ताने भी सहने पड़ते हैं लेकिन वह सबको क्षमा कर देता है।

 

sage dress

 

लाल रंग : इन उपेक्षाओं को सहने के बाद गुरु संन्यासी को साधु बनाता है, अर्थात ऐसा माना जाता है कि वह साधना के योग्य हो गया है। तब उसे लाल वस्त्र प्रदान किए जाते हैं। लाल रंग क्रोध, खतरे और ‍अग्नि का प्रतीक है। लाल रंग का अर्थ है परिचित और अन्य लोग उस संन्यासी से दूर रहें, यदि उसकी साधना भंग होगी तो उसे क्रोध आएगा और वह चिमटा और त्रिशूल लेकर दौड़ पड़ेगा।

 

काला रंग : साधना पूर्ण होने पर संन्यासी काले वस्त्र धारण करता है। काला रंग सभी रंगों का मिश्रण है, इसमें कुछ और नहीं मिलाया जा सकता है। यह पूर्णता और परम पवित्रता का प्रतीक है। यह दैवत्व की पराकाष्ठा का भी रंग है। अज्ञानता और मूर्खतावश लोगों ने इसे भय और अपशगुन का रंग मान लिया. दरअसल, काला रंग संतत्व, श्रेष्ठता और पूर्णत्व का रंग है।

 

भगवा रंग : शास्त्रों का मत है कि भगवा पहनने के बाद लकड़ी की औरत का भी स्पर्श नहीं होना चाहिए। भगवा पहनकर आप समाज में नहीं जा सकते।भगवा वैराग्य की पराकाष्ठा और चरम है। वर्तमान में भगवा की गरिमा का ध्यान नहीं रखा जा रहा है।..Next

 

 

Read more

स्वयं भगवान राम ने बनाई थी पापों से मुक्त कराने वाली इस मूर्ति को

महाभारत में शकुनि के अलावा थे एक और मामा, दुर्योधन को दिया था ये वरदान

आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग