blogid : 19157 postid : 1388629

हर दिन घटती है मथुरा के इस पर्वत की ऊंचाई, पुलत्‍स्‍य ऋषि ने दिया था छल करने पर श्राप

Posted On: 28 Oct, 2019 Spiritual में

Rizwan Noor Khan

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

782 Posts

132 Comments

हिंदू मान्‍यताओं के अनुसार मथुरा, गोकुल और वृंदावन को खासा महत्‍व दिया जाता है। ऐसा इसलिए भी क्‍योंकि द्वापर युग में यहीं पर भगवान श्री कृष्‍ण ने जन्‍म लिया और अपने युवाकाल तक का समय बिताया। यह इलाका उनके प्रेम, वात्‍सल्‍य, करुणा, चंचलता और हठ के लिए भी जाना जाता है। हर साल कार्तिक माह की शुक्‍ल प्रतिपदा के दिन यहां हर्षोल्‍लास के साथ पर्व मनाया जाता है। इस दौरान यहां दीपदान समेत कई तरह के समारोह के आयोजन की भी परंपरा है।

 

 

 

 

श्रीकृष्‍ण ने अंगुली पर उठाया पर्वत
भगवान श्रीकृष्‍ण का बाल्‍यकाल बेहद मनोहारी रहा है। बचपन में श्रीकृष्‍ण ने देवराज इंद्र का घमंड तोड़ने के लिए गोर्वधन पर्वत को अपनी अंगुली पर उठाकर मथुरा वासियों को संरक्षण दिया था। इसके बाद से श्रीकृष्‍ण ने गोवर्धन पर्वत की पूजा की परंपरा और उत्‍सव की शुरुआत की। यह दिन कार्तिक अमावस्‍या का अगला दिन था और इस दिन दीवाली पर्व मनाया जा रहा था। अगले दिन गोवर्धन पूजा की शुरुआत हुई। ऐसी मान्‍यता है कि गोवर्धन पूजा से दुखों का नाश होता है और दुश्‍मन अपने छल कपट में कामयाब नहीं हो पाते हैं। यह गोवर्धन पर्वत आज भी मथुरा के वृंदावन इलाके में स्थित है।

 

 

Image result for Pulastya Rishi aur govardhan parvat

 

 

 

गोवर्धन पर्वत और पुलस्त्य ऋषि
मथुरा में श्रीकृष्‍ण की लीला से पहले ही गोवर्धन पर्वत को पुलस्त्य ऋषि लेकर आए थे। हिंदू मान्‍यताओं के अनुसार इस संबंध में एक कथा प्रचलित है। इस कथा के अनुसार पुलस्त्य ऋषि तीर्थ यात्रा करते हुए गोवर्धन पर्वत के समीप पहुंचे तो उसकी सुंदरता और वैभव को देखकर प्रसन्‍न हो गए। इस पर उन्‍होंने गोवर्धन को साथ ले जाने के इरादे से गोवर्धन पर्वत के पिता द्रोणांचल पर्वत से निवेदन किया कि मैं काशी में रहता हूं और मैं आपके बेटे गोवर्धन को अपने साथ ले जाना चाहता हूं और वहां मैं इसकी पूजा करूंगा।

 

 

Image result for Pulastya Rishi aur govardhan parvat jagran.com

 

 

काशी ले जाने पर अड़े पुलस्त्य ऋषि
पुलस्त्य ऋषि के निवेदन पर द्रोणांचल पर्वत बेटे के लिए दुखी हुए लेकिन गोवर्धन पर्वत के मान जाने पर उन्‍होंने अनुमति दे दी। काशी जाने से पहले गोवर्धन पर्वत ने पुलस्त्य ऋषि से आग्रह किया कि वह बहुत विशाल और भारी है। ऐसे में वह उसे काशी कैसे ले जाएंगे। इस पर पुलस्त्य ऋषि ने अपने तेज और बल के जरिए हथेली पर रखकर ले जाने की बात कही। गोवर्धन ने फिर आग्रह किया कि वह एक बार हथेली में आने के बाद जहां भी उसे रखा जाएगा वह वहीं स्‍थापित हो जाएगा।

 

 

गोवर्धन पर्वत ने इच्‍छा मानी पर शर्त रखी
गोवर्धन का यह आग्रह मानकर पुलस्त्य ऋषि उसे हथेली पर रखकर काशी की ओर चल पड़े। पुलस्त्य ऋषि जब मथुरा के इलाके में पहुंचे तो गोवर्धन ने सोचा कि भगवान श्री कृष्‍ण इसी धरती पर जन्‍म लेने वाले हैं और यहीं पर गाय चराने वाले हैं। ऐसे में वह उनके समीप रहकर मोक्ष हासिल कर लेगा। यह सोचकर गोवर्धन पर्वत ने अपना वजन भारी कर लिया। वजन के बढ़ते ही पुलस्त्य ऋषि को आराम करने की जरूरत महसूस हुई और उन्‍होंने गोवर्धन पर्वत को वहीं जमीन पर रखकर सो गए।

 

 

Image result for Pulastya Rishi aur govardhan parvat jagran.com

 

 

पुलस्त्य ऋषि ने शापित किया
पुलस्त्य ऋषि जब जगे तो उन्‍होंने गोवर्धन पर्वत को चलने के लिए कहा। इस पर गोवर्धन पर्वत ने अपनी शर्त पुलस्त्य ऋषि को याद दिलाई कि उसे काशी से पहले जहां भी रखा जाएगा वह वहीं स्‍थापित हो जाएगा। इस पर पुलत्‍स्‍य ऋषि नाराज हो गए और उन्‍होंने गोवर्धन पर्वत पर छल करने का आरोप लगाया। गुस्‍से में पुलस्त्य ऋषि ने गोवर्धन पर्वत को हर दिन मुट्ठी भर घटने का श्राप दे दिया। पुलस्त्य ऋषि ने कहा कि तुम्‍हारी ऊंचाई घटते घटते कलयुग में तुम पूरे के पूरे पृथ्‍वी में समा जाओगे। कहा जाता है कि पुलत्‍स्‍य ऋषि के श्राप के चलते गोवर्धन पर्वत की ऊंचाई 30 हजार मीटर थी जो अब करीब 30 मीटर ही बची है। …Next

 

Read More: दीवाली मनाने की ये है असली कहानी, जानिए पहली बार पृथ्‍वी पर कब और कहां मनाया गया दीपोत्‍सव

धनतेरस के दिन शुरू करें यह 4 बिजनेस, मिलेगी अपार सफलता और हो जाएंगे मालामाल

कार्तिक माह में यह 5 काम करने से मिल जाएगी नौकरी….

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग