blogid : 19157 postid : 1389332

42 पहियों के रथ पर भाई-बहन के साथ चलते हैं पुरी के भगवान जगन्नाथ, जानिए रथयात्रा का महत्व और इतिहास

Posted On: 23 Jun, 2020 Spiritual में

Rizwan Noor Khan

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

846 Posts

132 Comments

 

 

कोरोना महामारी के चलते इस बार ओडिशा में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा पर रोक लगाई गई थी। हालांकि सुप्रीमकोर्ट ने अपने पहले फैसले को पलटते हुए तय नियमों का पालन करते रथयात्रा की अनुमति दी थी। आज यानी 23 जून को ओडिशा के पुरी समेत देशभर के तमाम शहरों में विश्वविख्यात रथयात्रा निकाली जा रही है।

 

 

 

 

आषाढ़ माह में निकलती है रथयात्रा
हिंदू धार्मिक ग्रंथों और पंचांग के अनुसार आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को भगवान जगन्नाथ नगर भ्रमण पर निकलते हैं। इसीलिए पूरे देश में रथयात्रा निकली जाती है। रथयात्रा आज से आठवें दिन यानी एकादशी को समाप्त होगी। भारत समेत कई देशों में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जाती है।

 

 

 

 

द्वापर युग से निकल रही रथयात्रा
भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकालने की परंपरा द्वापर युग से चली आ रही है। सबसे पहले द्वापर युग में ही रथयात्रा निकाली गई थी। ओडिशा के पुरी में सबसे भव्य और विशाल रथयात्रा का आयोजन प्रतिवर्ष किया जाता है। धार्मिक दृष्टि से इस यात्रा का खास महत्व है।

 

 

 

 

सुभद्रा की इच्छा पर 42 पहियों के रथ पर भम्रण
भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा को लेकर दो कथाएं प्रचलित हैं। पहली कथा श्रद्धालुओं में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है। इसके अनुसार एक बार सुभद्रा ने भगवान श्रीकृष्ण से नगर घूमने की इच्छा जताई तो उन्होंने रजामंदी दी। यात्रा के लिए बलराम भी तैयार हो गए। भगवान के भ्रमण की जानकारी आमजनों को होने पर मार्ग में में उनके जुटने की संभावना पर 42 पहिए लगाकर तीन बड़े रथ बनाए गए।

 

 

 

 

सबसे आगे चलते हैं बलराम
हिंदू धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण का रथ बड़ा बनाया गया। इसमें 16 पहिए लगाए गए, जबकि बलराम के रथ में 14 और सुभद्रा के रथ में 12 पहिए लगाए गए। यात्रा के दौरान सबसे आगे भगवान बलराम का रथ रहता है और उसके बाद सुभद्रा का और अंत में भगवान श्रीकृष्ण का रथ रहा। तब से यह परंपरा आज तक चल रही है।

 

 

 

 

नगर भ्रमण की प्रचलित कथा
दूसरी प्रचलित कथा के अनुसार एक धार्मिक अनुष्ठान के बाद भगवान जगन्नाथ को 108 कलशों से स्नान कराया गया था। इसके बाद उनके शरीर का ताप बढ़ गया। भगवान जगन्नाथ 15 दिनों तक महल से नहीं निकले। इससे उनके भक्त व्याकुल हो गए। आषाढ़ माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया ​तिथि को भगवान ने बहन सुभद्रा और भाई बलराम के साथ नगर भ्रमण कर भक्तों को दर्शन दिए।…Next

 

 

 

Read More:

लॉकडाउन में शादी करना चाहते हैं तो ये हैं शुभतिथियां

खंभा फाड़कर निकले नरसिंह भगवान से कैसे पाएं दुश्मन से बचने का आशीर्वाद

महाभारत युद्ध में इस राजा ने किया था खाने का प्रबंध, सैनिकों के साथ बिना शस्‍त्र लड़ा युद्ध

श्रीकृष्‍ण की मौत के बाद उनकी 16000 रानियों का क्‍या हुआ, जानिए किसने किया कृष्‍ण का अंतिम संस्‍कार

अल्‍प मृत्‍यु से बचने के लिए बहन से लगवाएं तिलक, यमराज से जुड़ी है ये खास परंपरा और 4 नियम

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग