blogid : 19157 postid : 864114

नौ नहीं पंद्रह दिनों तक की जाती है इस मंदिर में माँ देवी की उपासना

Posted On: 18 Oct, 2015 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

848 Posts

132 Comments

देशभर में शारदीय नवरात्रि का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है. यह पर्व शक्ति की देवी माँ दुर्गा को अर्पित है. शक्ति स्वरूपा माँ दुर्गा की उपासना हम भक्तजनों को असत्य से लड़ने की शक्ति देती है. माता का यह पर्व नौ दिनों तक चलता है. लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि एक स्थान ऐसा भी है जहाँ माँ दुर्गा की उपासना पंद्रह दिनों तक की जाती है.



0603_kamakhya-temple



पंद्रह दिनों तक चलता है मां दुर्गा की उपासना

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि मुख्य रूप से साल में दो बार मनाए जाने वाला यह पर्व नौ दिनों का होता है वहीं गुवाहाटी के कामाख्या मांदिर में माँ दुर्गा की उपासना पंद्रह दिनों तक चलता है. यहाँ के स्थानीय लोग इस उत्सव को ‘पखुवापूजा’ कहते हैं. इस मंदिर में माँ दुर्गा की भक्ति के अधिकांश कार्य बंद दरवाजों के अंदर किए जाते हैं. नीलांचल की पहाड़ियों पर स्थित कामाख्या मंदिर में दुर्गा पूजा के आयोजन का लंबा इतिहास रहा है.


Read: श्री कृष्ण के संग नहीं देखी होगी रुक्मिणी की मूरत, पर यहाँ विराजमान है उनके इस अवतार के साथ


उत्सव का आयोजन

वैसे तो इस पर्व का आयोजन अश्विन माह (सितंबर मध्य से अक्टूबर मध्य)  में चंद्रमा के घटने के नवें दिन यानी ‘कृष्ण नवमी’ पर होती है और इसका समापन चंद्रमा के बढ़ने के नवें दिन यानी ‘शुक्ल नवमी’ पर होता है लेकिन चैत्र नवरात्रि के अवसर पर भी इस मंदिर में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है. इसी साल चैत्र नवरात्रि के पहले दिन उद्योगपति अनिल अंबानी भी इस मंदिर में पूजा-अर्चना करते दिखे.


28-temple



मंदिर की विशेषता

51 शक्तिपीठों में से एक इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें देवी दुर्गा की कोई तस्वीर नहीं होती है. पूजा मुख्य ‘पीठ’ में की जाती है. माता दुर्गा के स्थान पर शंकु के आकार की आकृति है. इस शंकु की लंबाई 9 इंच और चौड़ाई 15 इंच है. इन पंद्रह दिनों में प्रतिदिन माँ भगवती की विशेष आराधना की जाती है. इस विशेष पूजा के अवसर पर मंदिर के दरवाजे श्रद्धालुओं के लिए बंद रखे जाते हैं.


Read: क्यों इस मंदिर के शिवलिंग पर हर बारहवें साल गिरती है बिजली?


कामाख्या मंदिर कौमारी तीर्थ भी

कामाख्या मंदिर विश्व का सर्वोच्च कौमारी तीर्थ भी माना जाता है. इसीलिए इस शक्तिपीठ में कौमारी-पूजा अनुष्ठान का भी अत्यन्त महत्व है. यहाँ आद्य-शक्ति की प्रतीक सभी कुल व वर्ण की कौमारियाँ होती हैं. किसी जाति का भेद नहीं होता है. इस क्षेत्र में आद्य-शक्ति कामाख्या कौमारी रूप में सदा विराजमान रहती हैं.Next…


Read more:

जानें कैसे होगी आपकी मृत्यु, पुराणों में है इसका उल्लेख

स्वयं के बचाव के लिए इस मंदिर ने बदल ली अपनी ही दिशा

मान सम्मान और उच्च पद की प्राप्ति के लिए बजाएं ये शंख

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग