blogid : 19157 postid : 1283520

महाभारत : कर्ण में था असुरों का अंश, कारण था ये भयानक श्राप

Posted On: 20 Oct, 2016 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

759 Posts

132 Comments

ead:
नारायण ने दिया सूर्यदेव को श्राप
नारायण ने असुर दम्बोद्भव को सुर्य से वापस मांगा लेकिन उन्होंने अपने भक्त की रक्षा करते हुए उसे नारायण को नहीं दिया. तब नारायण ने अपने कमंडल से जल लेकर सूर्यदेव को श्राप दिया कि आप इस असुर को उसके कर्मफल से बचाने का प्रयास कर रहे हैं, जिसके लिए आप भी इसके पापों के भागीदार हुए और आप भी इसके साथ जन्म लेंगे इसका कर्मफल भोगने के लिए.
कैसे कर्ण में आए सुर्य के अंश
दुर्वासा ऋषि जब पहली बार कुंती से मिले से मिले तो उन्हें ये ज्ञात हो गया था कि पांडू और कुंती को कभी संतान नहीं हो सकती है. इसलिए दुर्वासा ने कुंती को वरदान दिया की वो जिस भी देवता का स्मरण सबसे पहले करेंगी उन्हें संतान सुख की प्राप्ती होगी. कुंती ज्यादा दिन रोक नहीं सकी और विवाह से पहले सूर्य देव को स्मरण किया और कर्ण को जन्म दिया. जैसे नर और नारायण में दो शरीरों में एक आत्मा थी, उसी तरह कर्ण के एक शरीर में दो आत्माओं का वास है सुर्य और दम्बोद्भव…Next
Read More:

कर्ण महाभारत में मुख्य पात्रों में से एक है. आज से लगभग हजारों वर्ष पहले महाभारत लिखी गई लेकिन लोग अक्सर पांडव औऱ कौरव के बारे में ही बातें करते हैं लेकिन महाभारत के वीर योद्धा कर्ण के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं. कर्ण के बारे में सभी जानते हैं कि वे सूर्य-कुंती पुत्र थे लेकिन इस बात को बहुत लोग जानते हैं कि कर्ण सूर्य देव का अंश तो थे लेकिन उसके साथ ही उसके भीतर एक असुर का अंश भी था.


SHRAAP


कौन था असुर दम्बोद्भव

असुर दम्बोद्भव सूर्यदेव का भक्त था और अपनी भक्ति से दम्बोद्भव ने सूर्य देवता को प्रसन्न कर दिया था. अपने भक्त की भक्ति देखकर सूर्य देवता ने उसे एक अनोखा वरदान दिया. दम्बोद्भव को एक हज़ार दिव्य कवचों की सुरक्षा मिली. दम्बोद्भव ने वरदान ये भी मांगा की जो भी ये कवच तोड़े वो तुरंत मृत्यु को प्राप्त हो.


नर और नारायण ने तोड़े 999 कवच

असुर दम्बोद्भव के अंत की योजना के तहत नर और नारायण का जन्म हुआ विष्णु जी ने एक साथ दो शरीरों में नर और नारायण के रूप में जन्म लिया. नर असुर दम्बोद्भव ये युद्ध करने लगा और नारायण तपस्या. जैसे ही हज़ार वर्ष पूरे हुए नर ने असुर दम्बोद्भव के 999 कवचों को तोड़ दिया. इसके बाद दम्बोद्भव अपने जान बचान के लिए वापस सूर्य की शरण मेंं चला गया.


suryadev



Read: महाभारत में योद्धाओं की ये 6 शक्तियां आज आप करते हैं इस्तेमाल


नारायण ने दिया सूर्यदेव को श्राप

नारायण ने असुर दम्बोद्भव को सूर्य से वापस मांगा लेकिन उन्होंने अपने भक्त की रक्षा करते हुए उसे नारायण को नहीं दिया. तब नारायण ने अपने कमंडल से जल लेकर सूर्यदेव को श्राप दिया कि आप इस असुर को उसके कर्मफल से बचाने का प्रयास कर रहे हैं, जिसके लिए आप भी इसके पापों के भागीदार हुए और आप भी इसके साथ जन्म लेंगे इसका कर्मफल भोगने के लिए.


mahabharat



कैसे आए कर्ण में  सूर्य के अंश

दुर्वासा ऋषि जब पहली बार कुंती से मिले से मिले तो उन्हें ये ज्ञात हो गया था कि पांडु और कुंती को कभी संतान नहीं हो सकती है इसलिए दुर्वासा ने कुंती को वरदान दिया कि वो जिस भी देवता का स्मरण सबसे पहले करेंगी उन्हें संतान सुख की प्राप्ती होगी. कुंती ज्यादा दिन रोक नहीं सकी और विवाह से पहले सूर्य देव को स्मरण किया और कर्ण को जन्म दिया, जैसे नर और नारायण में दो शरीरों में एक आत्मा थी, उसी तरह कर्ण के एक शरीर में दो आत्माओं का वास है सूर्य और दम्बोद्भव…Next



Read More:

महाभारत में शकुनि के अलावा थे एक और मामा, दुर्योधन को दिया था ये वरदान

महाभारत के युद्ध में बचे थे केवल 18 योद्धा, जानिए इस अंक से जुड़े आश्चर्यजनक रहस्य

आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग