blogid : 19157 postid : 1388293

श्रीकृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र से समाप्त कर दी थी काशी नगर, फिर ऐसे किया पुर्न सृजन

Posted On: 12 Aug, 2019 Spiritual में

Pratima Jaiswal

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

781 Posts

132 Comments

भारत का प्राचीन नगर काशी, जिसे बनारस और वाराणसी नाम से भी जाना जाता है। इस जगह को आस्था का प्रतीक भी माना जाता है क्योंकि इससे हिन्दू धर्म के कई तरह के पूजन विधान और कर्मकांड जुड़े हुए हैं। विष्णुपुराण की एक पौराणिक कथा के अनुसार श्रीकृष्ण ने इस नगर को जलाकर राख कर दिया था। आइए, जानते हैं इसके विनाश और सृजन की दिलचस्प कहानी-

 

Image credit : wallpapercave.com

 

पौराणिक कथाओं के अनुसार द्वापर युग में मगध पर राजा जरासंध का राज था। अपने आतंक की वजह से पूरी प्रजा इससे डरा करती थी। राजा जरासंध की क्रूरता और असंख्य सेना कि वजह से आस-पास के सभी राजा-महाराजा डरा करते थे। मगध के इस राजा की दो बेटियां भी थीं। जिनका नाम अस्ति और प्रस्ति था, इन दोनों की शादी जरासंध ने मथुरा के दुष्ट राजा और श्री कृष्ण के मामा कंस से कर दी थी। राजा कंस को ये श्राप था कि उसकी बहन देवकी की आठवीं संतान ही कंस का वध करेगी। इसी वजह से राजा कंस ने बहन देवकी और उसके पति को बंदी बनाकर रखा। कई कोशिशों के बाद भी वो आठवीं संतान को जीवित रहने से नहीं रोक पाया। अपनी संतान को कंस से बचाने के लिए वासुदेव ने उसे यशोदा के घर में छोड़ा। माता यशोदा ने ही श्री कृष्ण का पालन पोषण किया, भगवान कृष्ण विष्णु के अवतार थे।

 

krishna-

 

कृष्ण  ने अपने मामा कंस का वध किया। इस बात की खबर मगध के राजा जरासंध को हुई। क्रोध में आकर उन्होंने श्री कृष्ण को मारने की योजना बनाई लेकिन अकेले वो सफल ना हो पाए। इसीलिए जरासंध ने काशी के राजा के साथ मिलकर कृष्ण को मारने की फिर योजना बनाई और कई बार मथुरा पर आक्रमण किया। इन आक्रमणों में मथुरा और भगवान कृष्ण को कुछ नहीं हुआ लेकिन काशी नरेश की मृत्यु हो गई। अपने पिता की मृत्‍यु का बदला लेने के लिए काशी नरेश के पुत्र ने काशी के रचयिता भगवान शिव की कठोर तपस्या की। भगवान शिव तपस्या से खुश हुए, काशी नरेश के पुत्र ने शिव जी से श्रीकृष्‍ण का वध करने का वर मांगा। भगवान शिव के काफी समझाने के बाद भी वह अपनी बात पर अड़े रहे और शिव जी को उन्‍हें ये वर देना पड़ा। वर में काशी नरेश पुत्र को एक कृत्या बनाकर दी और कहा कि इसे जहां मारोगे वह स्थान नष्ट हो जाएगा, लेकिन शंकर जी ने एक बात और कही कि यह कृत्या किसी ब्राह्मण भक्त पर मत फेंकना। ऐसा करने से इसका प्रभाव निष्फल हो जाएगा।

 

Shri-Krishna

 

काशी नरेश पुत्र ने श्रीकृष्‍ण पर द्वारका में यह कृत्या फेंका, लेकिन वह ये भूल गए कि श्रीकृष्‍ण खुद एक ब्राह्मण भक्‍त हैं। इसी वजह से यह कृत्या द्वारका से वापस होकर काशी गिरने के लिए लौट गई। इसे रोकने के लिए श्रीकृष्ण ने अपना सुदर्शन चक्र कृत्या के पीछे छोड़ दिया। काशी तक सुदर्शन चक्र ने कृत्या का पीछा किया और काशी पहुंचते ही उसे भस्म कर दिया। लेकिन सुदर्शन चक्र का वार अभी शांत नहीं हुआ इससे काशी नरेश के पुत्र के साथ-साथ पूरा काशी राख हो गई। बाद में यह नगरी पुनः बसाई गई। वारा और असि नदियों के बीच होने के कारण इसका नाम वाराणसी हुआ, यह काशी का पुनर्जन्म माना जाता है।…Next

Read More :

आपके घर में है ‘मनीप्लांट’ तो भूल से भी न करें ये गलतियां

समुद्र शास्त्र: अगर इस उंगली पर है तिल मिलता है प्यार, दौलत और शोहरत

गरूड़पुराण : पति से प्रेम करने वाली स्त्रियां भूल से भी न करें ये 4 कामa

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग