blogid : 19157 postid : 1205244

अर्जुन को बचाने के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने सहे थे इस योद्धा के 12 तीर

Posted On: 18 Jul, 2016 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

759 Posts

132 Comments

महाभारत के युद्ध को इतिहास के सबसे भीषण रक्तपात वाले युद्धों में से एक माना जाता है. इस युद्ध से जुड़ी हुई कहानियां आज भी याद की जाती है. देखा जाए तो 18 दिनों तक चले इस युद्ध से हम आज भी बहुत कुछ सीख सकते हैं. श्रीकृष्ण ने युद्ध के समय दुविधा में घिरे अर्जुन को गीता सार द्वारा जीवन की कई महत्वपूर्ण घटनाओं से लड़ने की शिक्षा दी थी. महाभारत में वर्णित एक ऐसी ही कहानी है कर्ण और अर्जुन के युद्ध के समय की.


krishna ji and arjun

महाभारत युद्ध में कर्ण और अर्जुन आमने-सामने थे. युद्ध बहुत भयंकर होता जा रहा था. दोनों योद्धा एक-दूसरे पर शक्तियों का प्रयोग कर रहे थे. कर्ण ने अर्जुन को हराने के लिए सर्प बाण चलाने का निर्णय किया. इस बाण को कर्ण ने वर्षों से अर्जुन पर प्रहार के लिए रखा था. वास्तव में ये बाण पाताललोक में अश्वसेन नाम का नाग था, जो अर्जुन को अपना शत्रु मानता था. इसका कारण ये था कि खांडववन में अर्जुन ने उसकी माता का वध किया था. अश्वसेन तभी से अर्जुन को मारने के लिए मौके की तलाश में था.


arjun

कर्ण को सर्प बाण का प्रयोग करते देख अश्वसेन खुद बाण पर विराजित हो गया. कर्ण ने अर्जुन पर तीर से निशाना बनाया. अर्जुन बाण का रूप धारण किए नाग को पहचान नहीं पाए जबकि अर्जुन का रथ चला रहे भगवान कृष्ण ने अश्वसेन को तत्काल ही पहचान लिया. अर्जुन के प्राणों की रक्षा के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने अपने पैरों से रथ को दबा दिया. रथ के पहिए जमीन में धंस गए. घोड़े बैठ गए और तीर अर्जुन के गले की बजाय उसके मस्तक पर जा लगा. इससे उसका मुकुट छिटककर धरती पर जा गिरा.


karn

Read : क्यों प्रिय है श्रीकृष्ण को बांसुरी, इस पूर्वजन्म की कहानी में छुपा है रहस्य


इस तरह श्रीकृष्ण ने अपने पार्थ अर्जुन को बचा लिया. अर्जुन और भगवान कृष्ण रथ के धंसे पहिए निकालने के लिए नीचे उतरे. तभी मौका देखकर कर्ण ने अर्जुन पर वार शुरू कर दिया और कृष्ण को 12 तीर मारे. पूरी सृष्टि के रचयिता भगवान श्रीकृष्ण ने उन बाणों के घाव को सह लिया. भगवान ने अर्जुन को अश्वसेन के बारे में बताया. अर्जुन ने छह तीरों से अश्वसेन के टुकड़े-टुकड़े कर दिए और इस तरह भगवान श्रीकृष्ण ने स्वयं पीड़ा सहते हुए अपने परमप्रिय अर्जुन को बचा लिया…Next


Read more

कौरवों से नहीं बल्कि इन दो मनुष्यों पर अधिक क्रोधित थे श्रीकृष्ण, पल भर के लिए युद्ध रोककर दिया था धर्म का ज्ञान

भागवतपुराण: श्रीकृष्ण की 16 हजार 8 पत्नियों का ये है रहस्य

भगवान शिव को कच्चा दूध और श्रीकृष्ण को इसलिए चढ़ाया जाता है माखन, इस तथ्य में छुपा है रहस्य

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग