blogid : 19157 postid : 836377

क्या आप जानते हैं भगवान राम की इकलौती बहन के बारे में

Posted On: 16 Jan, 2015 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

848 Posts

132 Comments

भगवान राम के तीन भाई होने की बात तो जगजाहिर है. लेकिन बहुत कम लोग यह जानते होंगे कि उनकी एक बहन भी थी. उनकी यह बहन जो उम्र में चारों भाईयों से बड़ी थी दशरथ और कौशल्या की बेटी थी.



shringa rishi



पौराणिक मान्यताओं के अनुसार अंगदेश के राजा रोमपद और उनकी पत्नी वर्षिणी की कोई संतान नहीं थी. कहा जाता है कि एक बार अयोध्या में वर्षिणी ने मजाक में ही राजा दशरथ के सामने संतान न होने के अपने दुख को व्यक्त किया. इस पर राजा दशरथ के मुँह से अपनी बेटी शांता को उन्हें देने की बात निकल गई.



Read: विज्ञान ने भी माना धरती पर जन्में थे भगवान राम !!



रघुकुल की यह परम्परा थी कि एक बार मुँह से निकले वचनों का पालन मरते दम तक किया जाता था. इसलिये राजा दशरथ ने अपनी एकमात्र बेटी शांता को उन्हें सौंप दिया. इस प्रकार शांता को लेकर रोमपद और वर्षिणी अपने देश लेकर आ गये जहाँ बड़े ही प्यार से उसका लालन-पालन होने लगा. राजा रोमपद और वर्षिणी ने बखूबी माता-पिता होने की जिम्मेदारी निभाई. शांता को वेद पठन और कला की शिक्षा भी दी गयी.



shantaa



एक बार राजा रोमपद शांता से बातचीत में व्यस्त थे. तभी एक ब्राह्मण वहाँ पहुँचा और राजा से मानसून के दिनों में खेतों की जुताई के लिए मदद की गुहार लगाई. लेकिन रोमपद अपनी दत्तक पुत्री से बातचीत में इतने मशगूल थे कि उन्होंने उस ब्राह्मण की विनती की ओर ध्यान नहीं दिया. राजा की इस अनदेखी से ब्राह्मण व्यथित हुआ और उसने वह राज्य छोड़ दिया. वर्षा के राजा इंद्र अपने भक्त की इस अनदेखी से अप्रसन्न और कुपित हुए. उनके प्रकोप से उस वर्ष अंगदेश में बहुत ही कम बारिश हुई. राजा रोमपद के समक्ष गम्भीर संकट उत्पन्न हो गया. उन्होंने इस समस्या के निदान के लिए श्रृंग ऋषि को बुलवाया और इससे बचने के लिए उन्हें यज्ञ करने को राजी कर लिया.



Read: रावण के ससुर ने युधिष्ठिर को ऐसा क्या दिया जिससे दुर्योधन पांडवों से ईर्षा करने लगे



श्रृंग ऋषि यज्ञ करने को राजी हो गये लेकिन उन्होंने रोमपद की दत्तक पुत्री शांता का हाथ माँग लिया. राजा रोमपद और वर्षिणी थोड़ी संकुचित हुई क्योंकि शांता राजकुमारी थी जिसे ऋषि से शादी के बाद आश्रम में रहना पड़ता. लेकिन उन्होंने ऋषि की बात टाली नहीं और शांता का हाथ उनके हाथों में दे दिया. कुछ अन्य पौराणिक मान्यताओं के अनुसार राजा दशरथ और कौशल्या ने ही अपनी बेटी शांता श्रृंग ऋषि को सौंप दी थी. Next…







Read more:

पत्थर में बदला कुत्ता, इस युग के राम आए उद्धार करने के लिए

हनुमान जी की शादी नहीं हुई, फिर कैसे हुआ बेटा? जानिए पुराणों मे छिपी एक आलौकिक घटना

क्या माता सीता को प्रभु राम के प्रति हनुमान की भक्ति पर शक था? जानिए रामायण की इस अनसुनी घटना को




Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग