blogid : 19157 postid : 1143283

इस कारण भगवान शिव को ‘वृषभ’ रूप लेकर करना पड़ा श्री विष्णु के पुत्रों का वध

Posted On: 3 Mar, 2016 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

848 Posts

132 Comments

भगवान शिव के विभिन्न रूपों से प्रत्येक मनुष्य बहुत कुछ सीख सकता है. उन्हें प्रकृति के संहारक नहीं बल्कि सृजनकर्ता के रूप में जाना जाता है क्योंकि जब भी धरती पर अत्याचार और पाप की वृद्धि होती है तब शिव अपना तीसरा नेत्र खोलकर महाप्रलय करके सृष्टि के नवनिर्माण का मार्ग खोल देते हैं. ऐसी ही एक कथा मिलती है ‘शिवपुराण’ में. जिसके अनुसार शिव ने सृष्टि के कल्याण के लिए प्रभु विष्णु के पुत्रों का वध किया था. इस कथा के अनुसार समुद्र मंथन के उपरांत जब अमृत कलश उत्पन्न हुआ तो उसे दैत्यों की नजर से बचाने के लिए श्री हरि विष्णु ने अपनी माया से बहुत सारी अप्सराओं की सर्जना की.


shiv killed vishnu sons


Read : ऐसा क्या हुआ था कि विष्णु को अपना नेत्र ही भगवान शिव को अर्पित करना पड़ा? पढ़िए पुराणों का एक रहस्यमय आख्यान

दैत्य अप्सराओं को देखते ही उन पर मोहित हो गए और उन्हें जबरन उठाकर पाताल लोक ले गए. उन्हें वहां बंधी बना कर अमृत कलश को पाने के लिए वापिस आए तो समस्त देव अमृत का सेवन कर चुके थे. जब दैत्यों को इस घटना का पता चला तो उन्होंने पुन: देवताओं पर चढ़ाई कर दी. लेकिन अमृत पीने से देवता अजर-अमर हो चुके थे. अत: दैत्यों को हार का सामना करना पड़ा. स्वयं को सुरक्षित करने के लिए वह पाताल की ओर भागने लगे. दैत्यों के संहार की मंशा लिए हुए श्री हरि विष्णु उनके पीछे-पीछे पाताल जा पहुंचे और वहां समस्त दैत्यों का विनाश कर दिया. दैत्यों का नाश होते ही अप्सराएं मुक्त हो गई. जब उन्होंने मनमोहिनी मूर्त वाले श्री हरि विष्णु को देखा तो वे उन पर आसक्त हो गई और उन्होंने भगवान शिव से श्री हरि विष्णु को उनका स्वामी बन जाने का वरदान मांगा.


apsara


Read : क्यों शिव मंदिर में गर्भगृह के बाहर ही विराजमान होते हैं नंदी?

अपने भक्तों की इच्छा पूरी करने के लिए भगवान शिव सदैव तत्पर रहते हैं अत: उन्होंने अपनी माया से श्री हरि विष्णु को अपने सभी धर्मों व कर्तव्यों को भूल अप्सराओं के साथ पाताल लोक में रहने के लिए कहा. श्री हरि विष्णु पाताल लोक में निवास करने लगे. उन्हें अप्सराओं से कुछ पुत्रों की प्राप्ति भी हुई लेकिन वह पुत्र राक्षसी प्रवृति के थे. अपनी क्रूरता के बल पर श्री हरि विष्णु के इन पुत्रों ने तीनों लोकों में कोहराम मचा दिया. उनके अत्याचारों से परेशान होकर सभी देवतागण भगवान शिव के समक्ष प्रस्तुत हुए व उनसे श्री हरि विष्णु के पुत्रों का संहार करने की प्रार्थना की.

shiv angry


देवताओं को विष्णु पुत्रों के आतंक से मुक्त करवाने के लिए भगवान शिव एक बैल यानि कि ‘वृषभ’ के रूप में पाताल लोक पहुंचे और वहां जाकर भगवान विष्णु के सभी पुत्रों का संहार कर डाला. तभी श्री हरि विष्णु आए आपने वंश का नाश हुआ देख वह क्रुद्ध हो उठे और भगवान शिव रूपी वृषभ पर आक्रमण कर दिया लेकिन उनके सभी वार निष्फल हो गए. मान्यता है कि शिव व विष्णु शंकर नारायण का रूप थे इसलिए बहुत समय तक युद्ध चलने के उपरांत भी दोनों में से किसी को भी न तो हानि हुई और न ही कोई लाभ.

sudarshan chakra


अंत में जिन अप्सराओं ने श्री हरि विष्णु को अपने वरदान में बांध रखा था उन्होंने उन्हें मुक्त कर दिया। इस घटना के बाद जब श्री हरि विष्णु को इस घटना का बोध हुआ तो उन्होंने भगवान शिव की स्तुति की. भगवान शिव के कहने पर श्री हरि विष्णु विष्णुलोक लौट गए। जाने से पूर्व वह अपना सुदर्शन चक्र पाताल लोक में ही छोड़ गए। जब वह विष्णुलोक पहुंचे तो वहां उन्हें भगवान शिव द्वारा एक और सुदर्शन चक्र की प्राप्ति हुई…Next

Read more

भगवान शिव की तीसरी आंख खुलने का राज छिपा है इस आध्यात्मिक आम के पेड़ में

भगवान शिव क्यों लगाते हैं पूरे शरीर पर भस्म, शिवपुराण की इस कथा में छुपा है रहस्य

शिव को ब्रह्मा का नाम क्यों चाहिए था ? जानिए अद्भुत अध्यात्मिक सच्चाई

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग