blogid : 19157 postid : 919552

अपनी चमत्कारिक गाथा से सबको हैरान किया सैकड़ों वर्षों तक जीवित रहने वाले इस बाबा ने

Posted On: 26 Jun, 2015 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

681 Posts

132 Comments

आज तरह-तरह के ढोंगी बाबाओं को देखकर बाबाओं पर विश्वास नहीं रहा. मन में ‘बाबा’ शब्द आते ही वैभवशाली जीवन व्यतीत करने वाले बाबाओं की छवि उभरती है. यह वही भारत भूमि है जहां के साधु-संतों और संन्यासियों ने अपना पूरा जीवन जन कल्याण में लगा दिया. समाचार के माध्यम से आपने वर्तमान के कई ढोंगी बाबाओं को जाना होगा, परन्तु आज एक ऐसे महायोगी बाबा की गाथा कहता हूँ जिसने सैकड़ों साल जीवित रह कर दुखियों के दुःख दूर किए हैं. इस बाबा को दुनिया देवरहा बाबा के नाम से जानती है.



Devrah



देवरहा बाबा का निवास ज्यादातर भारत के उत्तर प्रदेश के देवरिया में रहता था. एक योगी, सिद्ध महापुरुष एवं सन्त पुरुष थे देवरहा बाबा. देवरहा बाबा का जन्म कब और कहाँ हुआ किसी को भी पता नहीं है. यहाँ तक कि उनकी सही उम्र के विषय में अलग-अलग राय है. आमतौर पर सुनने में आता हैं कि देवरहा बाबा 900 साल तक जिन्दा थे. पर कुछ लोग 250 साल तो कुछ  500 साल मानते हैं. बाबा यमुना के किनारे वृन्दावन में वह 30 मिनट तक पानी में बिना सांस लिए रह सकते थे. बाबा जानवरों की भाषा समझ जाते थे. पल भर में खतरनाक जंगली जानवरों को वह काबू कर लेते थे.



Read: बाबा रामदेव के हॉलीवुड और बॉलीवुड में हैं कई अवतार


श्रद्धालुओं के अनुसार बाबा अपने पास आने वाले भक्तों से बड़े प्रेम से मिलते थे और उनको कुछ न कुछ प्रसाद अवश्य देते थे. प्रसाद देने के लिए बाबा अपना हाथ ऐसे ही मचान के खाली भाग में रखते थे और उनके हाथ में फल, मेवे या कुछ अन्य खाद्य पदार्थ आ जाते थे. यह किसी चमत्कार जैसा ही लगता था. वहाँ जाने वाले पुराने लोगों का कहना यह है कि बाबा को किसी ने कभी भी आते-जाते नहीं देखा. परन्तु वह खेचरी मुद्रा की वजह से आवागमन से कहीं भी कभी भी चले जाते थे. उनके आस-पास के बबूल के पेड़ों में कांटे नहीं होते थे तथा चारों तरफ सुंगध ही सुंगध होता था.


Devraha-Baba-2


बाबा का आशीर्वाद देने का तरीका निराला था. मचान पर बैठे-बैठे ही अपना पैर जिसके सिर पर रख दिया, वो धन्य हो जाता था. उनके दर्शनों को प्रतिदिन विशाल जनसमूह उमड़ता था. बाबा भक्तों के मन की बात भी बिना बताए जान लेते थे. उन्होंने पूरा जीवन अन्न नहीं खाया. दूध व शहद पीकर जीवन गुजार दिया. श्रीफल का रस उन्हें बहुत पसंद था.



Read: आठवीं पास बाबा रामदेव के पास हैं डॉक्ट्रेट की इतनी डिग्रियाँ



कहा जाता है कि बाबा देखते ही समझ जाते थे कि सामने वाले का सवाल क्या है. दिव्यदृष्टि के साथ तेज नजर, कड़क आवाज, दिल खोल कर हंसना, खूब बतियाना बाबा की आदत थी. याद्दाश्त इतनी कि दशकों बाद मिले व्यक्ति को भी पहचान लेते और उसके दादा-परदादा तक का नाम व इतिहास तक बता देते.



baba



देह त्यागने के समय तक वे कमर से आधा झुक कर चलने लगे थे. उनका पूरा जीवन मचान पर ही बीता. मइल में वे साल में आठ महीना बिताते थे. कुछ दिन बनारस के रामनगर में गंगा के बीच, माघ में प्रयाग, फागुन में मथुरा के मठ के अलावा वे कुछ समय हिमालय में एकांतवास भी करते थे. देवरहा बाबा ने अचानक 11 जून 1990 को दर्शन देना बंद कर दिया. तब अचानक मौसम तक का मिजाज बदल गया था. 11 तारीख को मंगलवार के दिन योगिनी एकादशी थी. यमुना की लहर का उछाल बाबा की मचान तक पहुंचने लगा. इन सब के बीच बाबा शाम चार बजे इस दुनिया को छोड़ कर चले गये. Next…



Read more:

आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा

नमाज पढ़ने के पीछे छिपे हैं कई अद्भुत रहस्य…जानना चाहते हैं क्यों हर मुसलमान के लिए नमाज पढ़ना जरूरी है?

तो क्या इस तरीके से लोगों को पुत्र प्राप्ति में मदद कर रहे हैं बाबा रामदेव…

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग