blogid : 19157 postid : 777760

पत्नी की इच्छा पूरी करने के लिए श्री कृष्ण ने किया इन्द्र के साथ युद्ध जिसका गवाह बना एक पौराणिक वृक्ष....

Posted On: 29 Aug, 2014 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

724 Posts

132 Comments

भारत को हमेशा से ही चमत्कारों का देश कहा जाता रहा है. यहां हर दूसरी राह पर आपका सामना कुछ ऐसे चमत्कारों से होता है जो आपको अचंभित करने के लिए काफी हैं. कुछ ऐसे ही चमत्कार या दूसरी भाषा में कहें तो लोगों के विश्वास के प्रतीक की एक कहानी हम आपको यहां बताने जा रहे हैं. यह किसी इंसान, जानवर या वस्तु की नहीं, बल्कि एक वृक्ष की कहानी है.


parjat tree pic


जी हां, उत्तरप्रदेश के बाराबंकी जिला मुख्यालय से 38 किलोमीटर की दूरी पर एक छोटा सा गांव किंटूर स्थित है. कहते हैं इस गांव का नाम पाण्डवों की माता कुंति के नाम पर रखा गया था और इसी स्थान पर पाण्डवों ने कुंति के साथ अपना अज्ञातवास बिताया था. इसी गांव में एक ऐसा वृक्ष है जिसकी कहानी दूर-दूर तक लोकप्रिय है. परिजात वृक्ष का नाम तो आपने सुना ही होगा, लेकिन यह कोई ऐसा-वैसा परिजात वृक्ष नहीं है, बल्कि मान्यता है कि वृक्ष को जो भी छू लेता है उसकी थकान पल भर में छूमंतर हो जाती है.


क्यों है यह वृक्ष इतना अलग?


यूं तो परिजात वृक्ष का किसी जगह पर होना कोई बहुत बड़ी बात नहीं है, यह देखने में किसी भी साधारण वृक्ष की ही तरह होता है लेकिन किंटूर गांव का यह परिजात वृक्ष कुछ खास है. एक सामान्य परिजात वृक्ष की ऊंचाई 10 से 25 फीट ही होती है लेकिन किंटूर के इस वृक्ष की ऊंचाई लगभग 50 फीट है. इतना ही नहीं, यह इकलौता परिजात वृक्ष है जिस पर ना तो बीज लगते हैं और ना ही इसकी किसी भी कलम को बोने से दूसरा वृक्ष लगता है.


flowers at ground


इस अद्भुत वृक्ष पर फूल जरूर खिलते हैं लेकिन वे भी रात के समय और सुबह होते-होते वे सब मुरझा जाते हैं. इन फूलों को खासतौर पर लक्ष्मी पूजन के लिए इस्तेमाल किया जाता है लेकिन केवल वही फूलों को इस्तेमाल किया जाता है जो अपने आप पेड़ से टूटकर नीचे गिर जाते हैं, क्योंकि इस पेड़ से फूलों को तोड़ने की मनाही है.


Read More: शिव-पार्वती के प्रेम को समर्पित हरितालिका तीज की व्रत कथा और पूजन विधि


कहां से आया यह वृक्ष?


हरिवंश पुराण में परिजात वृक्ष का एक खास वर्णन है जिससे हमें इस वृक्ष का इतिहास ज्ञात होता है. पुराणों में इस वृक्ष को कल्पवृक्ष कहा गया है और यह मान्यता है कि यह वृक्ष समुन्द्र मंथन से उत्पन्न हुआ था. इस वृक्ष को इंद्र स्वर्गलोक ले गए और इसे कवल छूने से ही वहां देव नर्तकी उर्वशी की सारी थकान दूर हो जाती थी.


Parijat tree


लेकिन फिर किंटूर कैसे पहुंचा यह वृक्ष?


पुराणों में एक कथा विख्यात है जिसके अनुसार एक बार देवऋषि नारद श्री कृष्ण से मिलने धरती पर पधारे थे. उस समय उनके हाथों में परिजात के सुन्दर पुष्प थे और उन्होंने वे पुष्प श्री कृष्ण को भेंट में दे दिए. कृष्ण ने वे पुष्प साथ में बैठी अपनी पत्नी रुक्मणी को सौंप दिए लेकिन जब ये बात कृष्ण की दूसरी पत्नी सत्यभामा को पता लगी तो वो क्रोधित हो उठी और कृष्ण से अपनी वाटिका के लिए परिजात वृक्ष की मांग की.


कृष्ण के समझाने पर भी भामा का क्रोध शांत नहीं हुआ और अंत में अपनी पत्नी की जिद के सामने झुकते हुए उन्होंने अपने एक दूत को स्वर्गलोक में परिजात वृक्ष को लाने के लिए भेजा पर उनकी यह मांग पर इंद्र ने इंकार कर दिया और वृक्ष नहीं दिया. जब इस बात का संदेश कृष्ण तक पहुंचा तो वे रोष से भर गए और इंद्र पर आक्रमण कर दिया. युद्ध में कृष्ण ने विजय प्राप्त की और इंद्र से परिजात वृक्ष ले आए. पराजित इंद्र ने क्रोध में आकर परिजात वृक्ष पर कभी भी फल ना आने का श्राप दिया इसीलिए इस वृक्ष पर कभी भी फल नहीं उगते.


Flower_


वादे के अनुसार कृष्ण ने उस वृक्ष को लाकर सत्यभामा की वाटिका में लगवा दिया लेकिन उन्हें सबक सिखाते हुए कुछ ऐसा किया जिस कारण रात को वृक्ष पर पुष्प तो उगते थे लेकिन वे उनकी पहली पत्नी रुक्मणी की वाटिका में ही गिरते थे. इसीलिए आज भी जब इस वृक्ष के पुष्प झड़ते भी हैं तो पेड़ से काफी दूर जाकर गिरते हैं.


Read More: क्या था वो श्राप जिसकी वजह से सीता की अनुमति के बिना उनका स्पर्श नहीं कर पाया रावण?


पाण्डवों से क्या संबंध है इस वृक्ष का?


अज्ञातवास भोग रहे पाण्डव माता कुंती के साथ एक गांव में आए जहां उन्होंने एक शिव मंदिर की स्थापना की ताकि उनकी माता अपनी इच्छानुसार पूजा अर्चना कर सकें. पुराणों में विख्यात कथा में यह वर्णन किया गया है कि माता कुंति के लिए ही पाण्डव सत्यभामा की वाटिका से परिजात वृक्ष को ले आए थे क्योंकि इस वृक्ष के पुष्पों से माता कुंति शिव की पूजा करती थीं. इस तरह से स्वर्गलोक से आया वृक्ष इस छोटे से गांव का हिस्सा बन गया.


parijat tree temple


लेकिन परिजात तो एक राजकुमारी थी…


इस अद्भुत वृक्ष से संबंधित एक और कहानी काफी प्रचलित है जिसके अनुसार यह कहा गया है कि एक समय था जब ‘परिजात’ नाम की एक राजकुमारी हुआ करती थी. उस राजकुमारी को भगवान सूर्य से प्रेम हो गया था लेकिन उसके अनेक प्रयासों के बाद भी भगवान सूर्य ने उसके प्रेम को अस्वीकार कर दिया.


सूर्य देवता से क्रोधित होकर राजकुमारी ने आत्महत्या कर ली और कहते हैं कि जिस स्थान पर परिजात की क़ब्र बनाई गई वहीं एक वृक्ष की उत्पत्ति हुई जिसका नाम ‘परिजात वृक्ष’ रखा गया.


Read More: बजरंगबली को अपना स्वरूप ज्ञात करवाने के लिए माता सीता ने क्या उपाय निकाला, पढ़िए पुराणों में छिपी एक आलौकिक घटना


महत्वपूर्ण है यह वृक्ष


लोगों के अति विश्वास और इस वृक्ष की महानता को देखते हुए सरकार ने भी इस ऐतिहासिक परिजात वृक्ष को संरक्षित घोषित कर दिया है. केंद्रीय सरकार द्वारा इस वृक्ष के नाम पर एक डाक टिकट भी बनाया गया है.


Parijat Tree stamp


गुणों से भरपूर है ये वृक्ष


ना केवल स्वर्गलोक या पृथ्वीलोक की मान्यताओं में इस वृक्ष को ऊंचा स्थान मिला है बल्कि अब तो आयुर्वेद ने भी स्वंय इसे ऊंची पद्वी दी है. आयुर्वेद में परिजात वृक्ष को हारसिंगार कहा जाता है और इसके फूल, पत्ते और छाल का उपयोग विभिन्न औषधियां बनाने के लिए किया जाता है.


parijat tree flowers


कहते हैं कि इसके पत्तों का सबसे अच्छा उपयोग सायटिका रोग को दूर करने के लिए किया जाता है और साथ ही इसके फूल हृदय रोगियों के लिए उत्तम हैं. यदि किसी को हृदय संबंधित कोई कठिनाई है तो अगर वो कम से कम एक माह तक इस वृक्ष के फूलों का किसी भी रूप में सेवन कर लेगा तो उसकी सारी परेशानी दूर हो जाएगी.


इसके साथ ही परिजात की पत्तियों का इस्तेमाल खास तरह का हर्बल तेल बनाने के लिए किया जाता है. इसके अलावा स्त्रियां यदि परिजात की कोंपल को पांच काली मिर्च के साथ मिलाकर इसका सेवन करें तो उनके सारे रोग मिट जाएंगे.


Read More:

क्या माता सीता को प्रभु राम के प्रति हनुमान की भक्ति पर शक था? जानिए रामायण की इस अनसुनी घटना को


ऐसा क्या हुआ था कि विष्णु को अपना नेत्र ही भगवान शिव को अर्पित करना पड़ा? पढ़िए पुराणों का एक रहस्यमय आख्यान


मां लक्ष्मी व श्री गणेश में एक गहरा संबंध है जिस कारण उन दोनों को एक साथ पूजा जाता है, जानिए क्या है वह रिश्ता


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग