blogid : 19157 postid : 1388477

नवरात्रि में कन्या भोज कराने से पहले जान लीजिए यह 5 नियम, कहीं अधूरा न रह जाए कन्‍या पूजन

Posted On: 5 Oct, 2019 Spiritual में

Rizwan Noor Khan

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

781 Posts

132 Comments

शास्त्रों में नवरात्रि के अवसर पर कन्या पूजन या कन्या भोज को अत्यंत ही महत्वपूर्ण बताया गया है। नवरात्रि में देवी मां के सभी साधक कन्याओं को मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप मानकर उनकी पूजा करते हैं। सनातन धर्म के लोगों में सदियों से ही कन्या पूजन और कन्या भोज कराने की परंपरा है। विशेषकर कलश स्थापना करने वालों और नौ दिन का वृत रखने वालों को लिए कन्या भोज को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है।

 

 

नवरात्रि के अंतिम दो दिन श्रेष्‍ठ
कुछ लेखों के अनुसार, भविष्यपुराण और देवीभागवत पुराण में कन्या पूजन का वर्णन किया गया है। इस वर्णन के अनुसार नवरात्रि का पर्व कन्या भोज के बिना अधूरा है। लोग कन्या पूजा नवरात्रि पर्व के किसी भी दिन या कभी भी कर सकते हैं। लेकिन पौराणिक कथाओं के अनुसार नवरात्रि के अंतिम दो दिनों अष्टमी और नवमीं को कन्या पूजन का श्रेष्ठ दिन माना गया है।

 

नौ कन्याओं को कराएं भोज
ज्योतिषाचार्य पं गणेश प्रसाद मिश्र के अनुसार कन्या पूजन के लिए दो से 10 वर्ष की कन्याओं को बहुत ही शुभ माना गया है। कथाओं में कहा गया है कि कन्या भोज के लिए आदर्श संख्या नौ होती है। वैसे लोग अपनी श्रद्धा अनुसार कम और ज्यादा कन्याओं को भी भोजन करा सकते हैं। कन्या भोज के लिए 10 साल से कम उम्र की बालिकाओं को ही महत्वपूर्ण माना जाता है।

 

 

सभी कन्‍या के अलग अलग नाम
कन्या भोज के लिए जिन नौ बच्चियों को बुलाया जाता है उन्हें मां दुर्गा के नौ रूप मानकर ही पूजा की जाती है। कथाओं में कन्याओं की उम्र के अनुसार उनके नाम भी दिए गए हैं। दो वर्ष की कन्या को कन्या कुमारी, तीन साल की कन्या को त्रिमूर्ति, चार साल की कन्या को कल्याणी, पांच साल की कन्या को रोहिणी, छह साल की कन्या को कालिका, सात साल की कन्या को चंडिका, आठ साल की कन्या को शाम्भवी, नौ साल की कन्या को दूर्गा और 10 साल की कन्या को सुभद्रा का स्वरूप माना जाता है।

 

एक बालक को भी भोज कराना अनिवार्य
प्रातः काल स्नान करके प्रसाद में खीर, पूरी, और हलवा आदि तैयार करना चाहिए। इसके बाद कन्याओं को बुलाकर शुद्ध जल से उनके पांव धोने चाहिए। कन्याओं के पांव धुलने के बाद उन्हें साफ आसन पर बैठाना चाहिए। कन्याओं को भोजन परोसने से पहले मां दुर्गा का भोग लगाना चाहिए और फिर इसके बाद प्रसाद स्वरूप में कन्याओं को उसे खिलाना चाहिए। नौ कन्याओं के एक साथ एक छोटे बालक को भी भोज कराने का प्रचलन है। बालक भैरव बाबा का स्वरूप या लंगूर कहा जाता है। कन्याओं को भरपेट भोजन कराने के बाद उन्हें टीका लगाएं और कलाई पर रक्षा बांधें। कन्याओं को विदा करते वक्त अनाज, रुपया या वस्त्र भेंट करें और उनके पैर छूकर आशिर्वाद प्राप्त करें।

 

 

पूरी होती हैं सभी मनोकामनाएं
मान्‍यता है कि जो साधक अष्ठमी या नवमी को कन्या भोज कराता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। ऐसी भी मान्‍यता है कि इस दिन कन्‍या पूजन और भोज के अलावा कन्‍याओं को वस्‍त्र, फल आदि भेंट करना चाहिए। इससे इच्‍छाओं की पूर्ति जल्‍द होती है और दुखों का नाश होता है।…Next

 

Read More: मां पार्वती का शिकार करने आया शेर कैसे बन गया उनकी सवारी, भोलेनाथ से जुड़ी है रोचक कथा

मां कात्‍यायनी से जिद पर अड़ीं ब्रज की गोपिकाएं तो पूरी करनी पड़ी कामना, कृष्‍ण से जुड़ा है रोचक किस्‍सा

स्‍कंद माता को अर्पित कर दिए ये दो पुष्‍प तो हर कामना हो जाएगी पूरी, पूजा के दौरान इन बातों का रखना होगा विशेष ख्‍याल

 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग