blogid : 19157 postid : 896825

17 लाख वर्ष पुरानी है पाकिस्तान के इस मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति!

Posted On: 2 Jun, 2015 Others में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

653 Posts

132 Comments

भारत-पाकिस्तान को सरहद ने भले ही दो मुल्कों में बाट दिया हो, पर दोनों मुल्कों का साझा इतिहास रहा है. इसका जीवंत उदाहरण कराची का पंचमुखी हनुमानजी मंदिर है. पाकिस्तान के शहर कराची में है यह मंदिर जिसका इतिहास काफी पुराना है. करीब 17 लाख वर्ष पुरानी इस ऐतिहासिक मंदिर में हनुमानजी के दर्शन के लिए सुबह से शाम तक भक्‍तों की भीड़ लगी रहती है. इस ऐतिहासिक पंचमुखी मंदिर का पुर्ननिर्माण निर्माण 1882 में हुआ था.


07temple2


कराची शहर पाकिस्तान का सबसे बड़ा नगर है और इसे सिन्ध प्रान्त की राजधानी भी कहा जाता है. यह अरब सागर के तट पर बसा है और पाकिस्तान का सबसे बड़ा बन्दरगाह भी है. कराची स्थित पंचमुखी मंदिर में हनुमानजी के दर्शन के लिए भारत से भी काफी संख्या में भक्त जाते हैं.


Read: यहां कोर्ट नहीं रामभक्त हनुमान करते हैं विवादों का निपटारा


शास्त्रों के अनुसार इस मंदिर में भगवान श्रीराम आ चुके हैं. मंदिर में उपस्थित पंचमुखी हनुमानजी की मूर्ति कोई साधारण मूर्ति नहीं है क्योंकि इस मूर्ति का इतिहास 17 लाख साल पुरानी त्रेता युग से है.



panchmukh


मान्यता है कि पंचमुखी मूर्ति जमीन के अंदर से प्रकट हुई थी. जिस स्थान पर यह मंदिर स्थित है उस जगह से ठीक 11 मुट्ठी मिट्टी हटाई गई थी और हनुमान जी मूर्ति प्रकट हुई. पुजारी के अनुसार मंदिर में सिर्फ 11 या 21 परिक्रमा लगाने से सारी मनोकामना पूरी हो जाती है. यहाँ आकर लाखों लोग अपने दुखों से निजात पा चुके हैं.


Read: हनुमान जी के इस विशेष मंत्र का जाप करें, होगी सारी मनोकामनाएं पूरी


कराची का पंचमुखी हनुमान मंदिर का ऐतिहासिक महत्व इस बात से पता चलता है कि भारत से भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी और जसवंत सिंह यहां आ चुके हैं. कराची के उस मंदिर में हिंदू परंपरा के तमाम देवताओं की मूर्तियां स्थापित है. मंदिर की महिमा सुनकर हर समुदाय के लोग यहाँ जाते रहते हैं.Next…

Read more:

हनुमान के साथ इस मंदिर में पूजे जाते हैं ये दो राक्षस

यहाँ हनुमान जी भी भक्तों से वसूलते हैं ब्याज!

हनुमान के प्रकोप से बचने के लिए इस मंदिर में शनि देव स्त्री रूप में हैं विद्यमान

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग