blogid : 19157 postid : 858999

खोज निकाला वह पर्वत जिससे हुआ था समुद्रमंथन

Posted On: 3 Mar, 2015 Others में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

653 Posts

132 Comments

अगर आप भी समझते हैं कि पौराणिक कथा केवल कल्पना होती है तो कम से कम समुद्र मंथन के साथ ऐसा नहीं. वैज्ञानिक प्रमाण यह सिद्ध करते हैं कि सचमुच समुद्र मंथन हुआ था. अगर आपको यकीन ना हो तो इसे पढ़ें. समुद्रमंथन देवताओं और दानवों के बीच हुआ था जिसमें देवताओं और दानवों ने वासुकि नाग को मन्दराचल पर्वत के चारो और लपेटकर समुद्र मंथन किया था.



Samudra-manthan


दक्षिण गुजरात के समुद्र में समुद्रमंथन वाला वही पर्वत मिला है. वैज्ञानिक परीक्षण के आधार पर इसकी पुष्टि भी की जा चुकी है. पिंजरत गांव के समुद्र में मिला पर्वत बिहार के भागलपुर में विराजित मूल मांधार शिखर जैसा ही है. गुजरात-बिहार का पर्वत एक जैसा ही है. दोनों ही पर्वत में ग्रेनाइट– की बहुलता है. इस पर्वत के बीचों-बीच नाग आकृति भी मिली है.


Read: स्वयं भगवान राम ने बनाई थी पापों से मुक्त कराने वाली इस मूर्ति को


द्वारका नगरी के पास ही देवताओं और राक्षसों ने अमृत की प्राप्ति के लिए समुद्र मंथन किया था. इस मंथन के लिए मन्दराचल पर्वत का उपयोग किया था. समुद्र मंथन के दौरान विष भी निकला था, जिसे महादेव शिव ने ग्रहण कर लिया था. सामान्यत: समुद्र की गोद में मिलने वाले पर्वत ऐसे नहीं होते. सूरत के आॉर्कियोलॉजिस्ट मितुल त्रिवेदी ने कार्बन टेस्ट के परीक्षण के बाद यह निष्कर्ष निकाला है. उन्होंने दावा किया है कि यह समुद्रमंथन वाला ही पर्वत है. इसके समर्थन में अब प्रमाण भी मिलने लगे हैं. ओशनोलॉजी ने अपनी वेबसाइट पर इस तथ्य की आधिकारिक रूप से पुष्टि भी की है.



20130114151042fishing-village

सूरत के ओलपाड से लगे पिंजरत गांव के समुद्र में 1988 में प्राचीन द्वारकानगरी के अवशेष मिले थे. डॉ. एस.आर.राव इस साइट पर शोधकार्य कर रहे थे. सूरत के मितुल त्रिवेदी भी उनके साथ थे. विशेष कैप्सूल में डॉ. राव के साथ मितुल त्रिवेदी भी समुद्र के अंदर 800 मीटर की गहराई तक गए थे. तब समुद्र के गर्भ में एक पर्वत मिला था. इस पर्वत पर घिसाव के निशान नजर आए. ओशनोलॉजी डिपार्टमेंट ने पर्वत के बाबत गहन अध्ययन शुरू किया. पहले माना गया कि घिसाव के निशान जलतरंगों के हो सकते हैं. विशेष कार्बन टेस्ट किए जाने के बाद पता चला कि यह पर्वत मांधार पर्वत है. पौराणिक काल में समुद्रमंथन के लिए इस्तेमाल हुआ पर्वत है. दो वर्ष पहले यह जानकारी सामने आई, किन्तु प्रमाण अब मिल रहे हैं.


Read: इस मंदिर में देवी मां की पूजा से पहले क्यों की जाती है उनके इस भक्त की पूजा


ओशनोलॉजी डिपार्टमेंट ने वेबसाइट पर लगभग 50 मिनट का एक वीडियो जारी किया है. इसमें पिंजरत गांव के समुद्र से दक्षिण में 125 किलोमीटर दूर 800 की गहराई में समुद्रमंथन के पर्वत मिलने की बात भी कही है. वीडियो में द्वारकानगरी के अवशेष की भी जानकारी है. इसके अलावा वेबसाइट पर एशियन्ट द्वारका के आलेख में ओशनोलॉजी डिपार्टमेंट द्वारा भी इस तथ्य की पुष्टि की गई है.Next…


Read more:

अपनी मृत्यु से पहले भगवान श्रीकृष्ण यहां रहते थे!

ॐ का उच्चारण आपको दिला सकता है ये लाभ

क्यों महिलाओं के बारे में ऐसा सोचते थे आचर्य चाणक्य

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग