blogid : 19157 postid : 1388339

रोजाना इन 5 मंत्रों के उच्चारण से बढ़ता है आत्मविश्वास और दूर होती है नकारात्मकता

Posted On: 27 Aug, 2019 Spiritual में

Pratima Jaiswal

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

795 Posts

132 Comments

भागती-दौड़ती जीवनशैली में इंसान मन की शांति खोता जा रहा है। ऐसा लगता है जैसे भोग-विलास की सुविधाओं में बढ़ोत्तरी के साथ ही इंसान में और भी पाने की इच्छा बढ़ती जाती है। कई बार तो ये इच्छा इतनी प्रबल होती है कि इंसान जाने-अंजाने कई समस्याओं से घिर जाता है लेकिन सुख-शांति और सभी तरह की बाधाओं का विनाश कुछ मंत्रों के उच्चारण से संभव हो सकता है, क्योंकि मंत्रों का केवल आध्यात्मिक महत्व ही नहीं बल्कि इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी हैं। आइए, हम आपको बताते हैं विभिन्न प्रकार की विपदा के समय किन मंत्रों का जाप करना चाहिए। साथ ही इन मंत्रों के जाप करने से सभी प्रकार की नकारात्मकता दूर होने के साथ ही आपका जीवन भी बदल जाएंगा।

 

 

 

ओम

अगर आपको लंबे-चौड़े मंत्र याद नहीं होते तो आप ओम मंत्र का जाप कर सकते हैं। ओम का अर्थ है ‘ब्रह्माड़ की ध्वनि.’ जब भी आपका मन अशांत हो तो आप अपनी आंखे बंद करके गहरी सांस लेकर ओम का उच्चारण करें। इस मंत्र को जपने से आपकी सहनशीलता और इच्छाशक्ति में वृद्धि होती है।

ओम नम: शिवाय

इस मंत्र का अर्थ है कि ‘हे शिव, मैं आपके सामने सिर झुकाता हूं।’ जब भी आपके आसपास के लोग आपको नीचा दिखाने की कोशिश करें या आपके कार्यों को कम करके आंके, तो स्वंय में आत्मविश्वास और धैर्य का संचार करने के लिए इस मंत्र का जाप करना चाहिए।

 

happy girl

 

लोकाः समस्ताः सुखिनो भवंतु

इस मंत्र का अर्थ है ‘संसार के सभी जीव खुश और सुखी रहें। उनके विचारों, शब्दों और आचरण में स्वच्छता का संचार हो। इस मंत्र का उच्चारण उस समय करना चाहिए जब किसी कारणवश आपको किसी व्यक्ति पर क्रोध आ रहा हो। इससे आपकी सहनशीलता बढ़ेगी और आपका मन शांत होगा।

 

ॐ सह नाववतु सह नौ भुनक्तु सह वीर्यंम करवावही: तेजस्वि नावधीतमस्तु मा विद्विषाव: ओम

इस मंत्र का अर्थ है कि ‘हे ईश्वर हमारी रक्षा करो. हमें आपके आर्शीवाद की जरूरत है। हम में मानवता का संचार करके, एक साथ मिल-जुलकर काम करने की भावना का संचार करो’। इस मंत्र का उच्चारण उस समय करना चाहिए, जब हम पर नकारात्मकता हावी होने लगे और हम अपने लक्ष्य से भटकने लगे।

ओम गण गणपतये नमो नमः

इस मंत्र का अर्थ है ‘मैं अपना मस्तक गज के शीष वाले, भगवान गणेश के चरणों मे झुकाता हूं।’ इस मंत्र का जाप तब करना चाहिए जब आपके सामने जीवन की कोई बड़ी चुनौती आई हो। साथ ही किसी नए काम को शुरू करने और किसी यात्रा पर जाते समय भी ये मंत्र बहुत प्रभावशाली होता है…Next

 

 

Read more

भागवतपुराण में वर्णित ये 10 भविष्यवाणियां बताती है कि कलियुग अपने चरम पर कब होगा

इस कारण से दुर्योधन के इन दो भाईयों ने किया था उसके दुष्कर्मों का विरोध

100 पाप करने के बाद भी इस योद्धा को इस कारण क्षमा कर दिया था श्रीकृष्ण ने

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग