blogid : 19157 postid : 1154905

इस सत्य में छुपा है भगवान शिव की खंडित मूर्ति पूजा करने का रहस्य

Posted On: 14 Apr, 2016 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

848 Posts

132 Comments

हिंदू धर्म की मान्यता अनुसार किसी मूर्ति के खंडित होते ही उसे विसर्जित करने या किसी वटवृक्ष के पास रखा जाता है. ऐसा करने के पीछे सभी लोगों के अपने-अपने तर्क है. जहांं एक ओर कुछ लोगों का मानना है कि भगवान की प्रतिमा में प्राण होते हैं इसलिए उनकी प्रतिमा टूट जाने पर उन्हें भी किसी भक्त की भांति ही पीड़ा होती है. दूसरी ओर कुछ लोगों का तर्क है कि यदि हमारे शरीर के किसी अंग में चोट लग जाए तो हम उस चोट को यूं ही नहीं छोड़ देते बल्कि उसका उपचार करवाते हैं तो भला भगवान की प्रतिमा को खंडित होने पर उन पर बिना कोई ध्यान दिए मंदिर में कैसे रख सकते हैं.


shiv shakti


Read : अपनी पुत्री पर ही मोहित हो गए थे ब्रह्मा, शिव ने दिया था भयानक श्राप


हम में से कई लोग मूर्ति और प्रतिमा को एक समान ही समझते हैं. दोनों के अर्थ में कोई अधिक अंतर नहीं है लेकिन भगवान की मूरत को प्रतिमा कहा जाता है, क्योंकि लोगों को विश्वास होता है कि भगवान की मूर्ति सजीव होती है. जबकि किसी कला, जीव आदि की बनाई हुई छवि को मूर्ति कहा जाता है. लेकिन आधुनिक जीवनशैली में भगवान की मूरत को मूर्ति ही कहा जाता है. अब बात करें खंडित चीजों की तो, इनमें एक प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा होती है. लेकिन इन सभी तर्कों से परे भगवान शिव एक ऐसे देवता हैं जिनकी खंडित मूर्ति की भी पूजा होती है.


lord shiv


इसलिए होती है शिव की खंडित मूर्ति की पूजा

शिव को सभी देवताओं में सबसे विशेष दर्जा दिया गया है क्योंकि सांसरिक मोह-माया से दूर शिव अपने तप में लीन रहते हैं. वे अपने उत्तरदायित्वों का निर्वाह करते हैं. इसके अलावा शिव को भौतिक नियमों से कोई सरोकार नहीं है. उनके लिए हर चीज की परिभाषा अलग है. शिव को निरंकारी माना जाता है. यानि शिव को वास्तव में किसी ने नहीं देखा है. तस्वीरों और मूर्तियों में उनका जो रूप दिखाई पड़ता है वो भक्तों की कल्पना मात्र है.


mahadev deity

Read : विष्णु को अपना नेत्र ही भगवान शिव को अर्पित करना पड़ा


इस प्रकार जिसका कोई आकार, रंग, रूप आदि न हो उसे भला क्या क्षति हो सकती है. महादेव का न तो आदि है और न ही अंत. इस प्रकार शिव की मूर्ति कितनी भी खंडित क्यों न हो जाए हमेशा पूज्यनीय होती है. साथ ही शास्त्रों के अनुसार शिवलिंग का पूजन किसी भी दिशा से किया जा सकता है लेकिन पूजन करते वक्त भक्त का मुख उत्तर दिशा होना सर्वश्रेष्ठ माना जाता है…Next


Read more

शिव को ब्रह्मा का नाम क्यों चाहिए था ? जानिए अद्भुत अध्यात्मिक सच्चाई

क्यों शिव मंदिर में गर्भगृह के बाहर ही विराजमान होते हैं नंदी?

शिव भक्ति में लीन उस सांप को जिसने भी देखा वह अपनी आंखों पर विश्वास नहीं कर पाया, पढ़िए एक अद्भुत घटना


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग