blogid : 19157 postid : 844739

इस श्राप के कारण जब यमराज को भी बनना पड़ा मनुष्य

Posted On: 31 Jan, 2015 Spiritual में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

653 Posts

132 Comments

श्रापों और पौराणिक कथाओं का संबंध चोली-दामन का न भी हो तो कम से कम दोनों के आपसी जुड़ाव का तो है ही. पौराणिक कथाओं में किसी भूल के लिए ऋषि-मुनियों अथवा सतियों द्वारा मनुष्यों और यहाँ तक कि देवताओं को भी श्राप देने का प्रसंग लोग सुनते आ रहे हैं. ऐसी अनगिनत कहानियाँ हमारे ज़ेहन में रची-बसी है जिसे हम अक्सर सुनते-सुनाते हैं. रामायण और महाभारत भी ऐसी कई कथाओं से भरी पड़ी है. फिर चाहे वो अपने ऋषि पति द्वारा देवी अहिल्या को दिया गया श्राप हो अथवा परशुराम द्वारा महारथी कर्ण को दिया गया श्राप. हालांकि श्राप से अपनी मुक्ति के लिए श्राप देने वाले ऋषि की अनुनय-विनय की जाती थी और अनेक कथाओं में ये वर्णन भी मिलता है कि वो उन्हें माफ कर देते थे या उससे मुक्ति का कोई रास्ता बता देते थे.



yamraja



श्राप की ऐसी ही एक कथा प्रचलित है जिसमें यमराज को भी एक ऋषि के कोप का सामना करना पड़ा और इसके परिणामस्वरूप यमराज को यमपुरी तक छोड़नी पड़ी थी. जानिए यमपुरी छोड़ने के बाद यमराज का क्या हुआ…..



Read: गांधारी के शाप के बाद जानें कैसे हुई भगवान श्रीकृष्ण की मृत्यु


महाभारत में एक प्रसंग आता है कि प्रसिद्ध ऋषि मंदव्य को राजा ने चोरी के आरोप में सूली पर चढ़ा दिया. लेकिन कई दिनों तक सूली पर लटकने के बाद भी ऋषि मंदव्य की मृत्यु नहीं हुई. इस पर राजा अचम्भित हुआ और उसने अपने निर्णय पर पुर्नविचार किया. तब राजा को यह महसूस हुआ कि भूलवश  उसने गलत इंसान को आरोपी ठहराकर सजा दे दी है. राजा को अपने मूर्खतापूर्ण निर्णय पर बेहद ग्लानि हुई.



vidura


लेकिन अपनी गलती का अहसास होते ही राजा शीघ्र ऋषि के समक्ष पहुँचा और उनसे क्षमा-याचना की. इसके पश्चात ऋषि  का देहावसान हो गया. अपनी मृत्यु के बाद जब मंदव्य ऋषि यमपुरी पहुंचे तो उन्होंने यमराज से पूछा, ‘उन्हें किस पाप की इतनी बड़ी सजा दी गई थी जो उन्हें चोरी के आरोप में सूली पर लटकना पड़ा?’



Read: आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा



यमराज ने मंदव्य ऋषि को बताया कि बारह वर्ष की अवस्था में उन्होंने पतंगे की पूँछ में एक सूई चुभा दी थी. इसलिए उन्हें ऐसी सजा मिली. यमराज से यह सुन ऋषि क्रोधित हो उठे और यमराज को श्राप देते हुए उन्होंने कहा कि ‘12 वर्ष का बच्चा इतना समझदार नहीं होता, और अगर यह सिर्फ बचपन की एक भूल थी तो उसकी इतनी बड़ी सजा अन्याय है. जा तू एक अछूत व्यक्ति के घर जन्म लेगा’! मंदव्य ऋषि के इस श्राप के परिणामस्वरूप यमराज ने विदुर के रूप में धरती पर जन्म लिया था. Next…..





Read more:

13वीं के बाद वह जिंदा हो गई

ऋषि व्यास को भोजन देने के लिए मां विशालाक्षी कैसे बनीं मां अन्नपूर्णा, पढ़िए पौराणिक आख्यान

आध्यात्मिक रहस्य वाला है यह आम का पेड़ जिसमें छिपा है भगवान शिव की तीसरी आंख के खुलने का राज


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग