blogid : 19157 postid : 1118076

अपनी मां के इस अपराध के कारण सिर काटकर परशुराम ने किया था वध, इस मुनि ने किया था पुनर्जीवित

Posted On: 27 Nov, 2015 Others में

religious blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

religious

846 Posts

132 Comments

महाभारत और रामायण दोनों ही ग्रंथों ही में परशुराम का प्रसंग मिलता है. उनके बारे में बहुत-सी विचित्रता जुड़ी हुई है. ऐसा कहा जाता है कि वे विष्णु के आंशिक अवतार थे. परशुराम राजा प्रसेनजित की पुत्री रेणुका और भृगुवंशीय जमदग्नि के पुत्र, विष्णु के अवतार और शिव के परम भक्त थे. इन्हें शिव से विशेष परशु प्राप्त हुआ था. इनका नाम तो राम था, किन्तु शंकर द्वारा प्रदत्त अमोघ परशु को सदैव धारण किये रहने के कारण ये परशुराम कहलाते थे. विष्णु के दस अवतारों में से छठा अवतार, जो वामन एवं रामचन्द्र के मध्य में गिना जाता है.


parshuram


Read : मार्शल आर्ट के संस्थापक भगवान परशुराम ने क्यों तोड़ डाला गणेश जी का दांत?


जमदग्नि के पुत्र होने के कारण ये ‘जामदग्न्य’ भी कहे जाते हैं. परशुराम के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने संसार के सभी क्षत्रियों को मारने का संकल्प लिया था. लेकिन क्या आप जानते हैं कि परशुराम ने एक बार अपनी माता का ही वध कर दिया था. पौराणिक कथा के अनुसार एक बार परशुराम की माता रेणुका स्नान करके आश्रम लौट रही थीं. तब संयोग से राजा चित्ररथ भी वहां जलविहार कर रहे थे. राजा को देखकर रेणुका के मन में विकार उत्पन्न हो गया. उसी अवस्था में वह आश्रम पहुंच गई. जमदग्नि ने रेणुका को देखकर उसके मन की बात जान ली और अपने पुत्रों से माता का वध करने को कहा. किंतु मोहवश किसी ने उनकी आज्ञा का पालन नहीं किया.


Read : रामायण और गीता का युग फिर आने को है


तब परशुराम ने बिना सोचे-समझे अपने फरसे से उनका सिर काट डाला. ये देखकर मुनि जमदग्नि प्रसन्न हुए और उन्होंने परशुराम से वरदान मांगने को कहा. तब परशुराम ने अपनी माता को पुनर्जीवित करने और उन्हें इस बात का ज्ञान न रहे ये वरदान मांगा. इस वरदान के फलस्वरूप उनकी माता पुनर्जीवित हो गईं. इस प्रकार परीक्षा में सफल होते हुए परशुराम न केवल मुनि को प्रसन्न कर दिया बल्कि अपनी मां को भी वापस पा लिया…Next


Read more :

रामायण ही न होता अगर वह न होती, फिर भी उसका जिक्र रामायण में नहीं है. क्यों? हैरत में डालने वाला राम से जुड़ा एक सच

रावण से बदला लेना चाहती थी शूर्पनखा इसलिए कटवा ली लक्ष्मण से अपनी नाक

क्यों शिव मंदिर में गर्भगृह के बाहर ही विराजमान होते हैं नंदी?


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग