blogid : 1674 postid : 742083

अच्छे दिन आने वाले हैं

Posted On: 17 May, 2014 Others में

Shivendra Mohan Singhकुछ नई, कुछ पुरानी और कुछ दिल की बातें ………

Shivendra Mohan Singh

6 Posts

39 Comments

गहन तिमिर की घटाएं
प्रतिकूल व्यवस्थाएं
निगलने तो आतुर लोलुपताएं
कंटकीर्ण रास्ते
चहुंओर घेरे विषधर भयंकर
​आस्तीनों में बैठे नाग जहरीले

लहराया परचम फिर भी सुहाना
आशाओं का दीपक हुआ फिर प्रज्ज्वलित
सुनहरे दिनों का आकांक्षित हुआ मन
उगने को है फिर से वैभव का सूरज
सुखी मन सुखी जन है गर्वित ये भारत

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग