blogid : 3502 postid : 569

प्यार दो, प्यार लो

Posted On: 13 Feb, 2013 Others में

अंगारMy thoughts may be like 'अंगार'

राजेंद्र भारद्वाज

84 Posts

1564 Comments

अब आपने वो कहावत तो सुनी ही होगी कि……. ‘ऊपर वाला जब भी देता है, छप्पर फाड के देता है’. ऐसा ही कुछ १४ फरवरी अर्थात वेलेन्टाइन डे को मेरे साथ भी होने वाला है. यानी कि जब मुझे ना केवल जन्म-जन्मांतर का सच्चा प्यार भी मिलेगा बल्कि मैं वेलेन्टाइन किंग का ख़िताब भी जीतूंगा. यदि लक्ष्मी देवी की कृपा भी रही तो किसी स्विस बैंक अकाउंटधारी कुबेरचंद की कन्या का दिल भी मुझ पर आ सकता है. १४ फरवरी को पूरा दिन मैं किसी घास-फूस की झोपड़ी में रहूँगा ताकि ना तो उपरवाले को छप्पर फाड़ने में ज्यादा दिक्कत हो और ना ही इस मंहगाई के ज़माने में मजबूत लिंटर वाली अपनी छत तुडवाने की बेवकूफी करनी पड़े.

 

भले ही बचपन से आज तक प्रेमिका के सच्चे प्यार के लिए तडपता रहा लेकिन कहते हैं ना…..’ऊपर वाले के घर देर है पर अंधेर नहीं’. वो तो जय हो संत वेलेन्टाइन देव की जो उन्होंने मेरे जैसे सच्चे आशिकों के लिए कम से कम साल के एक दिन तो प्यार के दरवाजे खोले. बल्कि मैं तो कहूँगा कि इस महान दिवस को तो राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाना चाहिए जिससे कि इस देश में लोग कम से कम एक दिन तो सब कुछ भूल कर सिर्फ प्यार ही प्यार करें. वैसे मेरे ज्योतिषी मित्र भविष्य प्रकाश ‘शास्त्री’ ने कुछ दिन पूर्व ही भविष्यवाणी कर दी थी कि ना केवल सन २०१३ की १४ फरवरी के पावन दिवस अर्थात वेलेन्टाइन डे के अवसर पर मेरे भीतर के तडपते प्रेमी की सभी ख्वाहिशें पूरी हो जायेंगी, बल्कि पूरे फरवरी महीने में मुझ पर प्रेम देव की अपार कृपा रहेगी. भविष्य प्रकाश का कहना अक्षरशः सही निकला, पहली फरवरी से ही मैं जिधर भी जा रहा हूँ, सुन्दर-सुन्दर कन्याएं मुझे प्यार और हसरत भरी निगाहों से देख-देख कर मदहोश हुई जा रही हैं. निश्चित ही उन्हें भी अपने प्यार का इजहार करने के लिए १४ फरवरी का बड़ी बेसब्री इंतजार होगा.

 

लगता है यही वो शुभ समय है कि मुझे अपनी भावी प्रेमिका(ओं) के लिए अपना भावनात्मक प्रेम-सन्देश प्रसारित कर देना चाहिए…….तो…….

 

हे देवियों, इस पावन प्रेम दिवस के अवसर पर आपके तडपते दिल को सुकून देने के लिए संत वेलेन्टाइन जी ने मुझे भेजा है आपको प्यार करने के लिए. अब इस प्रेम-विरह की वेदना में आपको और जलने नहीं दूंगा……मैं हूँ ना- प्यार का देवता,……. यानी कि राजाओं में इन्द्र है जो. वैसे लोग मुझे अंगार चंद भी कहते हैं क्योंकि जो मुझे प्यार नहीं करते, मैं उन पर अंगारे बरसा देता हूँ. उम्मीद है कि आप ऐसी स्थिति नहीं आने देंगी. कई जन्मों से आपका मन जिस सच्चे प्यार के लिए भटक रहा था, वो आज आपके सामने खड़ा है, यानी कि आपकी वर्षों की तपस्या सफल हुई, आपके सपने सच हुए. तो फिर इंतजार किस बात का है, दौड कर आओ और अपना प्यार पा लो. हालांकि इस प्रेम की प्रतियोगिता में एक वर्ग विशेष की प्रेमिकाओं को भाग लेने की अनुमति नहीं दी गई है, लेकिन उनको भी खुली छूट है कि वो मुझे जी भर के प्यार करें, मेरी तरफ से कोई प्रतिबंध नहीं है. और जहाँ तक पुरस्कार की बात है तो मेरे से बड़ा पुरस्कार, यानी कि स्वयं मैं, प्यार का देवता आपको इस दुनिया में और कहाँ मिलेगा भला.

 

तो…. हे देवियों, मेरे ह्रदय को अपने प्यार से झंकृत करने में देर मत करो क्योंकि मेरे ह्रदय में प्यार का संचार करने वाली लाइनें सिर्फ १४ फरवरी तक ही खुली रहेंगी. और हाँ, क्योंकि मैं ठहरा प्यार का देवता, मैं किसी का भी दिल तोड़ने में यकीन नहीं रखता. इसलिए जितनी भी कन्याओं के प्रणय-निवेदन मेरे पास आयेंगे, विदाउट स्क्रुटनी मैं सभी के सभी सहर्ष स्वीकार कर लूँगा. हालांकि फ़िल्मी हीरोइनों को मैं बहुत पसंद तो नहीं करता, पर इस पावन पर्व के दिन मैं बालीवुड बालाओं का प्यार भी स्वीकार कर लूँगा. वैसे तो डार्विन के ‘योग्यतम की उत्तरजीविता’ के सिद्धांत पर अमल करते हुए एक प्रेमिका दूसरी प्रेमिका को बर्दाश्त नहीं कर सकती, लेकिन प्रकृति के विपरीत यदि आप आपस में मिल-जुल कर मुझे प्यार करेंगी तो विश्वास कीजिये, मैं सभी को बराबर प्यार दूंगा, ये इस अंगार चंद का वादा है.

 

तो आदत के अनुसार एक प्यार भरी झिलाऊ तुकबंदी पेश है, कृपया दाद देकर खुज…….मेरा मतलब प्यार फैलाएं-

 

‘संत वेलेन्टाईन जी ने बना के हसीं वेलेन्टाईन डे

आप हसीनों को मुझसे प्यार करने की परमिशन दी है’

 

आप सभी को इस प्यार के देवता राजेंद्र का प्रेम-पूर्ण अभिवादन और वेलेन्टाइन डे की हार्दिक शुभकामनाएं……..

 

संत वेलेन्टाइन जी अमर रहें……. वेलेन्टाइन डे जिंदाबाद……..

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 4.58 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग