blogid : 760 postid : 578

बस एक कोशिश और बन जाएगी बात ...!!!

Posted On: 5 Oct, 2012 Others में

Jagran SakhiWomen Liberation & Empowerment Blog

Jagran Sakhi Blog

209 Posts

496 Comments

कहने को चाहे कोई कुछ भी कह ले, पर यह सच है कि अपनी चाहत के अनुसार सब कुछ कर पाने का मौका कम लोगों को ही मिल पाता है। ऐसे लोग बहुत हैं, जिन्हें अपनी इच्छानुसार सब कुछ करने का अवसर नहीं मिल पाता है। यह कभी घर-परिवार की स्थितियों के कारण होता है तो कभी अपनी सीमाओं के कारण और कभी समाज या समय भी इसका कारण बन जाता है। ऐसे हालात के शिकार हो गए लोगों में से अधिकतर परिस्थितियों से समझौता कर लेते हैं और जीवन भर अपने को, परिवार को, समाज को या फिर हालात को कोसते रहते हैं। कुछ लोग बिलकुल समझौता नहीं करते। वे हालात से जूझते हैं। यह संघर्ष कुछ दिनों का भी हो सकता है और कुछ वर्षो का भी। ऐसे संघर्ष में कुछ लोग जीत जाते हैं और कुछ हार भी जाते हैं। इन दो से भिन्न एक तीसरे प्रकार के लोग भी होते हैं। वे फौरी तौर पर समझौता कर लेते हैं, लेकिन इस फौरी समझौते के बावजूद अपने पवित्र उद्देश्यों की अग्नि को अपने भीतर जीवित बनाए रखते हैं। वे तब तक वही करते रहते हैं, जो कर पाने का उन्हें उस समय अवसर मिलता है। उनके लिए यह अपने आपमें एक तरह का संघर्ष होता है, अपने अस्तित्व को बचाए रखने का संघर्ष। बाद में वे जैसे ही उचित अवसर और परिस्थितियां हासिल कर पाते हैं, अस्तित्व को बचाए रखने का संघर्ष छोड कर, अपने अस्तित्व का महत्व स्थापित करने के संघर्ष में जुट जाते हैं। जब वे अपने इस महत्व को स्थापित कर लेते हैं तो दुनिया इसे एक बडे बदलाव के रूप में देखती है। जरूरी नहीं कि यह बदलाव हमेशा सकारात्मक ही हो। कई बार यह बदलाव नकारात्मक भी होता है और कभी-कभी तो अपने को ही या दूसरों को तोडने वाला भी, पर होता तो है और बदलाव से इनकार नहीं किया जा सकता।


Read – तेरे घर के सामने एक घर बनाउंगा


प्रतिभा की पहचान

बदलाव की यह प्रक्रिया केवल उचित परिस्थितियां न मिल पाने के कारण घटित होती हो, ऐसा भी नहीं है। ऐसा कई बार अपनी प्रतिभा और अपनी क्षमताओं को ठीक से पहचान न पाने के कारण भी होता है। कुछ लोग बने कुछ और करने के लिए होते हैं, लेकिन करने कुछ और लगते हैं। जो करने के लिए वे बने होते हैं, वह करने की प्यास भी उनके भीतर तब तक नहीं जगती, जब तक कि परिस्थितियां ही उन्हें इसका एहसास न कराएं। अपनी प्रतिभा या काम के बजाय वे लाभ या उपलब्धियों को अधिक महत्व देने लगते हैं। कई बार समसामयिक स्थितियों को महत्व देने के कारण भी ऐसा हो जाता है। बाद में जब उनके जीवन में ऐसा कुछ घटित होता है, जिससे उन्हें अचानक अपनी वास्तविक प्रतिभा की पहचान होती है, तब जाकर उन्हें जीवन की सही दिशा का बोध होता है। यह बोध ही उन्हें उस दिशा में ले आता है, जिसके लिए वे बने होते हैं। परिस्थितियां इसमें बडी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। महात्मा गांधी और महर्षि अरविन्द के जीवन इसके जीवंत उदाहरण हैं। गांधी जी कोई दक्षिण अफ्रीका में क्रांति करने नहीं गए थे। वे वहां वकालत करने गए थे, लेकिन परिस्थितियों ने उन्हें इसके लिए मजबूर कर दिया कि वे स्वतंत्रता के लिए संघर्ष शुरू करें और दक्षिण अफ्रीका से शुरू हुआ संघर्ष ही उन्हें भारत तक ले आया। ठीक इसी तरह महर्षि अरविंद ने योग-अध्यात्म की दिशा में सोचा भी नहीं था। उन्होंने भारत को अंगे्रजी शासन से स्वतंत्र कराने का स्वप्न देखा था और इसके लिए क्रांति का मार्ग अपनाया। उन्होंने लंबे समय तक संघर्ष भी किया, लेकिन इसके बाद राजनीति या किसी अन्य रास्ते पर जाने के बजाय उन्होंने अध्यात्म का मार्ग चुना। बाद में इन दोनों ही विभूतियों को जिन कारणों से दुनिया भर में जाना गया, वे परिस्थितियों के चलते उनके जीवन में आए बदलाव के परिणाम थे। परिस्थितियों ने ही उनके सामने उनके उद्देश्य को स्पष्ट किया और उन्होंने अपने वास्तविक लक्ष्य की दिशा में प्रयास शुरू किए।


क्षमताओं की पहचान

ऐसी परिस्थितियां कभी किसी संकट के रूप में आती हैं तो कभी किसी जरूरत और कभी जगह के बदलाव के रूप में। कई बार ये हमारी सोच से लेकर व्यक्तित्व तक को झकझोर कर रख देती हैं, लेकिन इन्हीं स्थितियों में आदमी अपने बारे में नए सिरे से सोचने के लिए विवश होता है। हालात का शॉक ही कई बार हमारे भीतर छिपी अनंत क्षमताओं को उजागर करता है। व्यक्ति उन दिशाओं में प्रयास शुरू करता है, जिनके बारे में वह जानता ही नहीं कि वह यह भी कर सकता है। हालांकि शुरुआत अकसर प्रयोग के तौर पर होती है। प्रयोग कभी सफल होता है और कभी विफल भी हो जाता है। समझदार लोग एक प्रयोग विफल हो जाने पर दूसरा शुरू करते हैं। कई बार तीसरी-चौथी दिशाओं में भी प्रयास करने पडते हैं, लेकिन अंतत: वे सफल होते हैं।


इसका एक मार्मिक उदाहरण है स्वतंत्रता के बाद भारत का विभाजन। इसमें कोई दो राय हो ही नहीं सकती कि यह एक बडी त्रासदी थी। न केवल देश, बल्कि उन लाखों परिवारों के लिए भी जिन्हें पाकिस्तान बन जाने के बाद अपनी जमीन और संपत्ति छोडकर भारत में विभिन्न स्थानों पर जाना पडा। इस त्रासदी के शिकार होकर बहुत लोगों ने हिम्मत खो दी, लेकिन बहुत लोगों ने संघर्ष भी किया। उनके लिए यह संघर्ष सबसे पहले अपने अस्तित्व को बचाए रखने का था। उन्हें कई जगहें बदलनी पडीं, व्यवसाय और रास्ते बदलने पडे। हर बार नए प्रयोग करने पडे। लेकिन अंतत: वे सफल हुए और आज उनमें से कई अपनी अलग पहचान बना चुके हैं। ऐसी परिस्थितियां स्वतंत्रता के बाद भी आई जब लोगों को किसी संकट के कारण एक से दूसरे स्थान पर जाना पडा और वहां नए सिरे से अपने को स्थापित करने के लिए संघर्ष करना पडा।


ऐसा बदलाव केवल त्रासद ही नहीं, सामान्य परिस्थितियों में भी होता है। तब जब लोग अपने विकास के लिए एक स्थान छोडकर दूसरी जगह जाते हैं। ऐसा बदलाव दुनिया भर के युवाओं के लिए लगभग अनिवार्य माना जाता है। बेशक एक अलग तरह का संघर्ष यह भी होता है। संकट में कोई जगह छोडने की तुलना में यह संघर्ष कम होता है, लेकिन साहस, धैर्य और समझ की आवश्यकता ऐसे मामलों में भी कम नहीं होती है। दिल्ली विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग में प्रोफेसर आनंद प्रकाश के अनुसार, मुश्किल तब होती है जब कुछ लोग किसी मुश्किल से बचने के लिए ऐसा करते हैं। जब कोई नकारात्मक धारणा के साथ बदलाव करता है तो वह आगे भी उसी नकारात्मक मन:स्थिति में बना रहता है और यह उसके विकास में बाधक होता है। इसलिए किसी भी बदलाव से पहले एक बार यह मूल्यांकन अवश्य करना चाहिए कि हम बदलाव क्यों कर रहे हैं। साथ ही, नई परिस्थितियों के लिए अपनी क्षमताओं का ठीक-ठीक आकलन भी जरूर कर लेना चाहिए।


Read – सिमटती दूरियां बदलते जीवन


संबंधों की त्रासदी

बदलाव उन स्थितियों में उतना कष्टप्रद नहीं होता, जबकि संबंधित व्यक्ति अपनी जडों से जुडे रहते हुए ही किसी नए स्थान या व्यवसाय में स्थापित होने का प्रयास करे। सबसे जोख्िाम भरा होता है यह उन स्थितियों में जब किसी को अपनी जडें छोडकर बिलकुल नए सिरे से स्थापित होने की कोशिश करनी पडती है। इसमें भी सबसे त्रासदीपूर्ण अनुभव होता है रिश्तों में बदलाव का। क्योंकि पहले दो बदलावों में सारा संघर्ष बाहरी होता है। अकसर भीतर से उसे सहारा देने के लिए उसके अपने लोग होते हैं। जो हर हाल में उसका हौसला बनाए रखते हैं। किसी भी संघर्ष में कई बार ऐसी स्थितियां आती हैं जब व्यक्ति अपना धैर्य खोता हुआ महसूस करने लगता है। ऐसी स्थिति में वे उसे धैर्य बंधाते हैं। जरूरत पडते पर साहस, संयम, आत्मविश्वास और समझ भी देते हैं। लेकिन संबंधों में बदलाव की स्थिति ऐसी होती है जब व्यक्ति भीतर का सहारा चूक जाता है। संबंधों का टूटने पर, चाहे वह जीवनसाथी से हो या भाई-बहन या मित्र से, हर हाल में व्यक्ति अपना भरोसा खोता हुआ दिखाई देता है। ख्ासकर जीवनसाथी से अलगाव की स्थिति उसे एक अपराध बोध से भी भर देती है। कुछ लोग तो ऐसे अलगाव के बाद टूट ही जाते हैं, लेकिन कुछ ऐसे भी होते हैं जो कुछ समय बाद गर्द-गुबार झाडकर नए सिरे से उठ खडे होते हैं। वे नए संबंध की ओर कदम बढाते हैं और अपनी जिंदगी सिरे से शुरू करने की कोशिश करते हैं। प्रो. आनंद प्रकाश कहते हैं, यह मामला अति संवेदनशील है और उतनी ही संवेदनशीलता के साथ सूक्ष्मतम आत्ममूल्यांकन की मांग भी करता है। अगर किसी को ऐसा कदम उठाना पडे तो उसे यह जरूर सोचना चाहिए कि ऐसा उसे करना क्यों पडा? जिन कारणों से कोई रिश्ता टूटता है, अगर वे कारण मौजूद रहे तो नए रिश्ते का कोई अर्थ नहीं है। बेहतर होगा कि पहले उन कारणों का समाधान किया जाए। यह किसी मामले में अंतिम विकल्प ही हो सकता है। इसी विषय पर फिल्म सेकंड शादी डॉट कॉम बना चुके निर्माता विनोद मेहता कहते हैं, दूसरी शादी करने की सलाह किसी को नहीं दी जा सकती। यह सिर्फ एक समाधान हो सकता है.. ऐसे लोगों के लिए है, जो किसी वजह से अपने जीवनसाथी को खो चुके हैं, या किसी कष्टप्रद संबंध से उबरे हैं। ऐसी स्थिति में किसी संबंध के साथ जीवन का अंत नहीं होना चाहिए। बेशक संबंध हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं, ख्ासकर जो परंपरागत परिवेश में पले-बढे लोग हैं, उनके लिए पारिवारिक संबंध ही जीवन की धुरी होते हैं। वे बहुत मुश्किल में फंसने और एक संबंध टूट जाने के बाद भी दूसरे संबंध के बारे में नहीं सोच पाते। उनके लिए यह और भी मुश्किल होता है जिनके बच्चे थोडे बडे होते हैं। निहायत एकाकी जीवन जीते हुए भी वे बार-बार यही सोचते रहते हैं कि अगर कहीं हमने दूसरा संबंध स्थापित किया तो बच्चे उसे स्वीकार कर सकेंगे या नहीं। कई बार इसके ख्ाराब परिणाम देखे भी गए। लेकिन अगर हम सोच-समझ कर संबंध स्थापित करें और बच्चों को भी किसी गलतफहमी में न रखें तो ऐसे संबंध माता-पिता के साथ-साथ बच्चों के लिए भी अच्छे साबित हो सकते हैं। ध्यान रखना होगा कि इस प्रकार के संबंध किसी लालच, दबाव या वासना के वशीभूत होकर न किए जाएं। वरना यह संतुष्टि के बजाय केवल भटकाव देता है।


Tags: Jagran sakhi, hindi blog, best story blog, how to move on, जागरण सखी, हिन्दी ब्लॉग


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग