blogid : 26118 postid : 42

ऐसे चलेगा इंडिया, तो कैसे बढ़ेगा इंडिया ?

Posted On: 21 Apr, 2018 Uncategorized में

Sandeep Sumanसमाज,शिक्षा और राजनीति पर निष्पक्ष और बेवाक दृष्टिकोण।

Sandeep Suman

23 Posts

1 Comment


विश्व भारत को उभरती हुई शक्ति मानती है, और इसे भविष्य के सुपर पावर के रूप में देख रही है। लेकिन जिस रफ़्तार से देश में कार्य चल रहा है उस हिसाब से हमें सुपर पावर बनने में हजारों वर्ष लग सकते है और शायद तब तक कोई और देश हमसे आगे निकल विश्व शक्ति के रूप में उभर जाये और हमारा विश्व शक्ति बनने का स्वप्न, स्वप्न ही बन कर रह जाए।
2002 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कर कमलों से हमारे शहर मुंगेर में रेल सह सड़क पुल का शिलान्यास होता है। यह पुल खगड़िया और मुंगेर को रेल और सड़क माध्यम से जोड़ने के कार्य करने वाली थी, साथ ही साथ बिहार के औधोगिक शहर माने जाने बेगूसराय से मुंगेर की दुरी कम होने वाली थी। वाकई में ये मुंगेर, खगड़िया और बेगूसराय की जनता के लिए नायव तोफा था। प्रतिदिन जान हथेली पर लेकर नावो से लोग गंगा पर कर आते जाते थे, अब आगमन आसान होने वाला था। किंतु आज करीबन पंद्रह वर्ष बाद भी ये स्वप्न अधूरा ही है।

2002 में आरंभ हुए रेल सह सड़क पल का कार्य आज बजी अधूरा है। किसी तरह वर्ष 2016 में रेल सेवा तो आरंभ हो गई किन्तु सड़क का कार्य अभी बजी अधूरा है। सड़क निर्माण का कार्य राज्य सरकार के अंतर्गत आती है किंतु राज्य सरकार भूमि अधिग्रहण के प्रति सजक नहीं है, जिसके वजह से रोज लाखों का व्यपारिक हानि हो रही है, साथ ही साथ फ़िलहाल दो जोड़ी ट्रेन जमालपुर, खगड़िया और बेगूसराय के बीच चलने के कारण अभी भी या तो लोगों को नाव का सहारा लेना होता है या जान दांव पर लगा के पुल के रेलवे पथ से ही होकर गुजरना पड़ता है जिससे दुर्घटना का भय सदा बना रहता है।
पुल निर्माण के लिए बजट 937 करोड़ रखी गई थी, किन्तु जैसे-जैसे कार्य की अवधि बढ़ती गई कार्य में देरी होते गई इसका लागत करीबन ढाई गुना 2361.86 करोड़ हो गई और अभी भी सड़क मार्ग का निर्माण पूर्ण नहीं हुआ है। लेट लतीफी और सरकारी उदासीनता के वजह से जो अतिरिक्त धन का व्यय हुआ शायद उसमे दो और पुलो का निर्माण हो सकता था या कहे किसी और सामाजिक कल्याण के कार्य में लगाया जा सकता था। जिस देश में एक पुल निर्माण करने में 15 वर्ष का समय लगे वो भी अभी अधूरा हो, ऐसे में वो देश कैसे सुपर पावर निकट भविष्य में बन सकता है ? इस प्रकार के शैली से कैसे देश विकास के राह पर अग्रसर होगा ?

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग