blogid : 26118 postid : 64

येदुरप्पा के इस्तीफा के पीछे है बीजेपी की 2019 की रणनीति।

Posted On: 21 May, 2018 Uncategorized में

Sandeep Sumanसमाज,शिक्षा और राजनीति पर निष्पक्ष और बेवाक दृष्टिकोण।

Sandeep Suman

24 Posts

1 Comment

दो दिन मुख्यमंत्री पद संभालने के उपरांत आखिर क्यों इतनी आसानी से येदुरप्पा ने सीएम पद से इस्तीफा दे दिया ? क्या वाकई में बीजेपी बहुमत नहीं जुटा पाई या इस्तीफा के पीछे अमित शाह की कोई रणनीति है। कर्नाटक बीजेपी के लिए दक्षिण भारत के राजनीति में एक अहम् स्थान रखता है खास कर तब जब लोकसभा का चुनाव सर पर हो, और 104 सीट लाने के बाद भी बीजेपी के मुख्यमंत्री बिना बहुत परिक्षण के इस्तीफा सौप आए। ये बात कुछ हजम नहीं होती।

 

बीजेपी की इसके पीछे गंभीर रणनीति हो सकती है और उसने पीछे दिनों कई राज्यो में ऐसा करके दिखया भी है। यदि अभी चौबीस घंटे के मध्य बीजेपी बहुमत साबित कर भी देती तो कांग्रेस इसे खरीद फरोख्त करार कर केंद्र सरकार पर भष्टाचार का आरोप लगा कर लोगों के मध्य जाती तो शायद केंद्रीय नेतृत्व नहीं चाहती। इसलिए येदुरप्पा से इस्तीफा दिलाने में ही अपनी भलाई समझी।

अब आगे की रणनीति बीजेपी ये अपनाएगी की 2019 के चुनाव से पूर्व जेडीएस और कांग्रेस के विधायकों को तोड़ने का प्रयास करेगी और शायद वो उपमे सफल भी हो क्योंकि उन्हें सिर्फ आठ विधायको की जरूरत है, उसके उपरांत बीजेपी पुनः सत्ता में आएगी और 2019 से पहले लोकसभा चुनाव के लिए मोदी का राह आसान करने का प्रयास करेगी। नागालैंड और बिहार इसका सटीक उदहारण है, क्योंकि कांग्रेस-जेडीएस की चुनाव के उपरांत गठबंधन है, मनचाहे मंत्री पद के लिए संघर्ष निश्चित है और इसी मौके के तलाश में बीजेपी बैठी होगी, इस तरह अगर लोकसभा चुनाव से पूर्व कांग्रेस की सरकार गिर गई तो कांग्रेस को 2019 इलेक्शन में काम वक़्त में संभालना मुश्किल होता। कांग्रेस के लिए बेहतरी इसी में थी की वो अकेले रहती और विपक्ष में बैठने का फैसला करती, क्षणिक लाभ से कुछ हासिल नहीं होने वाला।

 

Tags:     

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग