blogid : 23046 postid : 1227439

--''हे भारत के वीर ''

Posted On: 12 Aug, 2016 Others में

sangeeta singh bhavnaJust another Jagranjunction Blogs weblog

sangeetasinghbhavna

16 Posts

46 Comments

हे भारत के वीर
तू क्यों नींद में पड़े बेखबर
सो रहे हो …….?
उठो,और आँखें खोलो
देखो,प्राची-दिशा का ललाट
सिंदूरी-रंजित हो उठा है
अब सोने का समय नहीं है
अगर सोना ही है तो,
अनंत निद्रा की गोद मे जाकर सो जा
माया -मोह-ममता को त्याग कर
एक नए इतिहास की सृजन कर
तेरी माँ, तेरी शस्यश्यामला
तुझे पुकार रही है …….
उसके आंसुओं की एक-एक बूंद की
सौगंध है तुझे,
उठ ,और राष्ट्र का मुख उज्जवल कर दे
तुम ही हो,जिसके अथक प्रयास से
भारत का भाग्य-निर्मित है
राष्ट्र के भविष्य की सफलता के बीज
भी तुम ही हो ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
उठो ,और उसका बेड़ा पार करो
बोलो अपने मुक्तकंठ से-
वन्देमातरम…..वन्देमातरम ….वन्देमातरम …!

संगीता सिंह ”भावना”

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग