blogid : 5503 postid : 685756

लघु कथा-प्यार में हम जो-जो आगे बढ़ते...[contest]

Posted On: 12 Jan, 2014 Others में

social issuधरती की गोद

sanjay kumar garg

30 Posts

669 Comments

वैवाहिक जीवन का पहला पड़ाव– नयी-नयी शादी हुर्इ है, “पतिदेव” प्रात: सेविंग कर रहे हैं तभी उनको ब्लैड लग जाता है।
आहs की हल्की आवाज उनके मुंह से निकली, पत्नी किचिन से भागी हुर्इ आयी!
‘डार्लिंग’ ब्लैड लग गया! पति ने पत्नी से ‘नार्मल’ होते हुए कहा!
(पत्नी जल्दी से ‘डिटाल’ लाती है।)

अरे! कितना सारा ब्लड निकल गया, आज आप आफिस मत जाइये, घर पर ही रेस्ट कीजिए! पत्नी दुःखी स्वर में ‘डिटाल’ लगाती हुर्इ बोली!
वैवाहिक जीवन का दूसरा पड़ाव- अब बच्चे हो जाते हैं, “पति महोदय” रोज की तरह सेविंग कर रहे है, उनको ब्लैड लग जाता है।
उफ!! नीरूsss ब्लैड लग गया, ‘पति महोदय‘ होने वाले ‘दर्द’ से भी ‘तेज’ चिल्लाये।
आप! भी ना, इतने साल आपको सेविंग करते हुए हो गये, परन्तु अभी तक आपको सेविंग करनी नहीं आयी, ये लो ‘फिटकरी’ लगा लो, मैं आपका और बच्चों का लन्च तैयार कर रहीं हूँ। पत्नी झल्लाती हुर्इ ‘फिटकरी’ पटकते हुए वहां से चली गयी।

वैवाहिक जीवन का तीसरा पड़ाव– बच्चों का विवाह हो चुका है। “पति जी” सेविंग कर रहे हैं और उनको ब्लैड लग जाता है!
हायsssss मर गया! अरे ‘रितिक’ की ‘अम्मा’ कहां है ‘तू’?
”क्यों चिल्ला रहे हो, इतना गला फाड कर, ब्लैड ही लगा है, कोर्इ तलवार तो नहीं लगी? कितनी बार कहां है, अब अपने आप ‘दाड़ी’ मत बनाया करो, नार्इ से बनवा लिया करो, पर तुम्हे तो जवान बनने की लगी है ना!” वृद्ध पत्नी बिस्तर में लेटे-लेटे चिल्लार्इ।
अलमारी में ‘डिटाल’ या ‘फिटकरी’ रखी होगी लगा लो!
ये कहकर पत्नी ने चादर मुंह तक तान ली!

किसी ने ठीक कहा है-

प्यार में  हम जो-जो आगे बढ़ते गये,

‘आप’ से ‘तुम’ तुम से ‘तू’  होते गए!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग