blogid : 12745 postid : 1117379

सत्ता है अब नगर वधू

Posted On: 25 Nov, 2015 Others में

संजीव शुक्ल ‘अतुल’कुछ मन की बातें

shukla sanjeev

20 Posts

6 Comments

सत्ता है अब नगर वधू , हर कोई उसको छूना चाहे ,,
मर्यादा की फांद दीवारे , उसको हर कोई पाना चाहे ,,
दल बदले , निष्ठाएं बदलीं , टूट गयी सब मर्यादाएँ ,,
लोकतंत्र के अन्तःपुर में , हर कोई अब घुसना चाहे ,,
सत्ता के इस चक्रव्यूह में सौ सौ अभिमन्यू फंसे हुए ,,
द्यूत समझ जनसेवा को , अब हर शकुनी जय करना चाहे ,,
सत्य -असत्य , अनीति -नीति की व्याख्याएं तब कौन सुनेगा ,,
जब शासन हो धृतराष्ट्र अंध का ………….पूरा पढ़ने के लिए नीचे दी गयी लिंक पर क्लिक करें ….

http://sanjeevshuklaatul.blogspot.in/2013/04/satta-hai-ab-nagar-vadhu.html

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग