blogid : 4243 postid : 1145979

देशद्रोह !

Posted On: 14 Mar, 2016 Others में

हमार देशएक आम आवाज

Santosh Kumar

238 Posts

4240 Comments

आदरणीय मित्रों ,..सादर प्रणाम

लम्बी गुमशुदगी के बाद कुछ लिखने की प्रबल इच्छा हुई ,..आभार समेत अभिवादन स्वीकारते हुए पढने की कृपा करें !….अज्ञानी को उचित अनुचित का बोध कराने की दया भी करें  !  …..

जे एन यू में क्या हो रहा है ?…..भारत तेरे टुकड़े होंगे …इंशाअल्ला ..इंशाअल्ला !….भारत की बर्बादी तक जंग रहेगी !…..हर घर में अफजल होगा ..जैसे नारे लगाने वाले कौन हैं !……अब पकड़े गये चेहरों को छुड़ाने के लिए भी प्रदर्शन प्रयास हो रहे हैं ,……..नामी विश्वविद्यालय में राष्ट्रद्रोही कार्यक्रम के आयोजक कौन हैं!,….उनके आका संरक्षक कौन हैं !…..सूत्रधार कौन हैं,….मोहरे कौन हैं ….समर्थक कौन हैं !……ये भारतीय तो कदापि नहीं हो सकते !…भारतीय वेश पहचानधारी ये लोग निश्चित भारतद्रोही हैं !……ये आदमखोर प्रजाति की नास्तिक शैतानी ताकतों के आदमखोर कठपुतले मात्र हैं !………भारतीय अखंडता एकता शान्ति विकास विरोधी ताकतें कुछ भारतीय विश्वविद्यालयों में जम गयी हैं !….ये कुटिल राजतंत्र पर बहुत गंभीर सवाल है ,…लम्बे खाऊ कांग्रेसी काल के ये लाल अतिधूर्त हैं …..कांग्रेस आप भाकपा माकपा आदि दल उनके समर्थन में क्यों खड़े हो गए !……उधर दुष्ट आतंकी इशरत जहाँ किन किन की बेटी थी !……वैसे आतंकियों के लिए ससम्मान आंसू बहाने वाले इस देश में सुपर पीएम भी होते थे !….भला हो जनता का जिसने मोदीजी को सक्षम देशभक्त सरकार बनाने का मौका दिया !

लेकिन अब संकट और गहरा लगता है ,…….सच्चे भारत सेवक को सत्ता पाते देख आतंकियों और नक्सलियों में गठजोड़ कर लिया है ,……दोनों के आका विदेशी हैं ,……दोनों भारत की बर्बादी चाहते हैं ,…. रोहित कन्हैया जैसी बेचारी कुंठित मेधायें अतिकुंठित मिथ्यावादियों के जाल में फंस जाती हैं ,………..घटिया शिक्षकों संगतियों से उन्नतिशील आत्माएं भी आत्महानि राष्ट्रहानि की कारण बनती हैं !…….इनके जाल में फंसकर तमाम मासूम जिंदगियां बर्बाद होती हैं  …हमें संकट का सामना दिलेरी से करना होगा ,….चंद चालू चांडालों के चक्कर में देश नहीं फंसना चाहिए ,……अब और देर नहीं होनी चाहिए ,…आतंकवाद नक्सलवाद का सफाया आवश्यक है ,….विदेशी सत्ताएं अपने लाभ हानि के हिसाब से आतंक के पैमाने तय करते हैं ,…अमरीका का दोगलापन फिर उजागर हुआ है ….अपने लाभ के लिए आतंकवाद को बढाता है ,…. आतंकवाद से लड़ता भी है ,……अपने लाभ के लिए आतंकी ठिकानाधारियों को अपने उन्नत लड़ाकू जहाज भी देता है ,…..फ्रांस खुद आतंक पीड़ित समृद्ध स्वाभिमानी देश है लेकिन हमें लड़ाकू जहाज देने में बेदर्दी से मोलभाव करता है ,………हमें अपनी लड़ाई खुद ही लड़नी होगी ,……. शुरुआत शिक्षातंत्र में घुसे सफ़ेद भेड़ियों भेदियों से होनी चाहिए ,……विश्वविद्यालयों पर देश को गर्व होना चाहिए ,…….इनपर देशभक्त भारतीयों का खून पसीना खर्च होता है ,…विश्वविद्यालय राष्ट्रीय सामजिक मानवीय उन्नति के लिए होते हैं …….यहाँ भावी दिशा दशा तय होनी चाहिए ,….यहाँ गद्दारों को खुली पनाह नहीं मिलनी चाहिए ,…….भटकाए गए गरीब नासमझ इंसानों को समझने समझाने का कुछ समय मिलना चाहिए ,…लेकिन ….बिके ,भटके ,गिरे सक्षम लोगों से भारतीय संस्थाओं को तुरंत मुक्त करना चाहिए ,…..सबसे पहले जे एन यू को ही साफ़ करना चाहिए !….सभी राष्ट्रभक्तों की तरह मेरे विचार से देशभक्त सरकार को देशहित में आवश्यक कठोर कदम उठाना ही चाहिए !…..यहाँ कुछ भटके भेड़ियों के सिवा सभी शान्ति चाहते हैं ,…देश आतंकी भेड़ियों से मुक्ति चाहता है !…..नक्सलवाद का अंत चाहता है !

..मोदी विरोधियों की कुंठाएं पागलपन की हद तक पहुँच गयी हैं ,….मोदी सरकार बनते ही वो पूरा बौरा गए ,….सुकर्मों से देश विदेश में मोदी की लोकप्रियता बढ़ने के हिसाब से उनका पागलपारा चढ़ता गया ,…..उनके कारनामों से फिर साबित हो गया है कि वो असली देशद्रोही हैं ,……एक सक्षम समर्पित कर्मठ प्रेरक उच्च कोटि का साधक और महान देशभक्त प्रधानमन्त्री उनको बर्दाश्त नहीं है ,…….पगलाए लोग निजहित में देश संसद विकास सम्मान सबकुछ रोकना चाहते हैं !….वो हर हाल में उन्नति रोकना चाहते हैं …..आदिकाल से मानवता की पोषक गौ माता को हर हाल में खाना चाहते हैं ,…..कुत्सित कांग्रेसी कुत्ते आरक्षण की आग फैलाकर देश को जलाना और मोदी भाजपा संघ को बदनाम करना चाहते हैं ,….ये किसी हाल में सबको साथ नहीं देखना चाहते ,…ये सबका नहीं सिर्फ अपना विकास चाहते हैं ,…..मोदी की फोटो पर जरा गन्दगी डालने के लिए विरोधी अपनी जेब मुंह और जाने कहाँ कहाँ गन्दगी भरके रखते हैं ,….. भारतभक्तों को बदनाम करने के लिए छल बल धन सब अर्पित है ,….वैसे ……देश सबकी कारगुजारियां देख रहा है ,…ये धरती ब्रम्हांड अनंत आकाश आकाशगंगा सब भगवान् का है ,…कर्मानुसार सबकी नियति निश्चित है ,….लेकिन हमारी समझ को अक्सर जंग लग जाता है ,…..हमारे तमाम नेता दल परजीवी बुद्धिजीवी फिरसे खुद को भारतद्रोही साबित कर चुके हैं ,……वास्तव में ये बुद्धिमान विपक्षी या नेता समाजसेवी शिक्षाविद कहाने लायक ही नहीं बचे ……ये मात्र कुछ काबिल कमीने हैं ……इनको सम्मान वोट इमदाद तो क्या भीख में एक दाना देना भी गुनाह है ,…लेकिन हम जैसे घूर सहिष्णुओं के कारण ही तमाम कमीने माननीय बने हैं !….एक तरफ आतंकवाद नक्सलवाद से देश के वीर जवान अपनी जान देकर लड़ते हैं ,..दूसरी तरफ गद्दारों के कुकृत्य साजिशें हैं ,… हर भारतीय का खून खौलना स्वाभाविक है ,..लेकिन  …हमें संयम भी रखना होगा ,….किसी हरामखोर को मारने पीटने से कोई समाधान नहीं निकल सकता है ,..प्रेम से समझना शायद उनके बस का नहीं है ,..आखिर वो भी एक आत्मा हैं ,….. स्थापित न्यायतंत्र के अनुरूप उनको उचित दंड मिलना चाहिए ,..उनमें सुधार होना चाहिए ,…..वैसे कुछ अंश ही सही अपने कारनामों से हम सब (कुछ महान आत्माओं के सिवा ) भारतद्रोही हैं ,…तभी तो हर स्तर पर भारत से सतत साजिशें होती हैं और हम जाति भाषा लिंग क्षेत्र मत पंथ की चालू चक्कियों में पिसते हैं !………हम अपने तमाम विकारों के बोझ से लदे हैं !……..राष्ट्रद्रोह सबसे विकृत विकार है !……विकार से पाप होता है ,…और कम से कम शोले के अनुसार पाप की वजह से आंधी तूफ़ान भी आते हैं ,…हम भगवान् को भूल चुके हैं ,…फल भी भुगत रहे हैं ,…जिम्मेदार कौन ,…फिक्स टेप रिकाडर बोले तो केवल मोदी सरकार !…………हमारी चरम क्रूरता का कुछ मानवीय इलाज तो होना ही चाहिए !…..

संतोष कुमार

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग