blogid : 25565 postid : 1322373

कोयलिया

Posted On: 31 Mar, 2017 Others में

saritkritiJust another Jagranjunction Blogs weblog

SARITA PRASAD

21 Posts

3 Comments

कोयलिया

कुहु कुहु करती हूँ सुनसान गलियों मे
मन रमाती हूँ वियावान गलियों मे

रस राग समझने वाला कोई चाहिए
बार बार खो जाती हूँ अंजान गलियों में

अंबिया की खुशबू मुझे लुभाती है
फिर लोट आती हूँ उन्ही सुनसान गलियों में

रस भरने के इंतजार मे टकटकी लगाए बैठी हूँ
कुहु कुहु राग सुनाती हूँ इन अंजान गलियों मे

रस स्वाद महसूस कर इतराती हूँ
बार बार सुर लगाती हूँ इन बेनाम गलियों में

गुंजायमान करती हूँ इन बेजान गलियों मे ।

सरिता प्रसाद
पटना , बिहार

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग