blogid : 855 postid : 131

नारी सशक्तिकरण(EMPOWERMENT OF WOMEN )

Posted On: 3 Apr, 2011 Others में

jara sochiyeसमाज में व्याप्त विक्रतियों को संज्ञान में लाना और उनमे सुधार के प्रयास करना ही मेरे ब्लोग्स का उद्देश्य है.

SATYA SHEEL AGRAWAL

251 Posts

1360 Comments

#प्रत्येक जीव की भांति मानव भी दो अवस्थाओं में पैदा होता है। अर्थात नर एवं मादा। परन्तु सभी जीवों को छोड़कर सिर्फ मानव समाज ही महिलाओं के साथ पक्षपातपूर्ण व्यव्हार करता है। उसे दोयम दर्जे का स्थान देता है।आखिर क्यों? क्योंकि नारी पुरुष के मुकाबले कम बलवान है, माना कुछ हद तक वह कम शक्तिशाली है, परन्तु मातृत्व शक्ति का वरदान जो उसे मिला हुआ है क्या वह पुरुष के पास है?फिर उसे क्यों समय समय पर अपमानित किया जाता है, उसे प्रताड़ित किया जाता है, उसे अबला माना जाता है?

#दहेज़ की चिंता के वशीभूत होकर माता-पिता आज भी अपनी बेटी को उसकी योग्यता के अनुसार उच्च शिक्षा दिलाने से कतराते हैं। क्योंकि अधिक शिक्षित लड़की के लिए उच्च शिक्षित वर्ग का लड़का चाहिए, जिसके लिए अधिक दहेज़ की आवश्यकता होगी।

#हिन्दू एवं मुस्लिम समाज में आज भी महिलाओं के साथ पक्षपातपूर्ण व्यव्हार किया जाता है,क्यों?

#नारी के उत्थान में सबसे बड़ी बाधा स्वयं नारी (सास-ननद,जेठानी-देवरानी,इत्यादि) ही बनी हुई है.जब महिला ही महिला के प्रति संवेदनशील नहीं होगी तो नारी उत्थान कैसे संभव होगा। उसे समानता का अधिकार कैसेमिलेगा?

#क्या हम दावे के साथ कह सकते हैं की महिला को आजादी के तरेसठ वर्ष पश्चात् समानता के अधिकार प्राप्त होगए हैं,नारी शोषण समाप्त हो चुका है,सही अर्थों में महिला को सम्मान मिलने लगा है। मेट्रो शहरों में चलने वाली पब्लिक ट्रांसपोर्ट में महिलाओं का सफ़र करना आज भी सुरक्षित हो पाया है?

#क्या महिला को आज भी खेलने की वस्तु या छेड़ने का सामान नहीं समझा जाता? उसे उपभोग की चीज मान कर विज्ञापनों में प्रदर्शित नहीं किया जाता?प्रत्येक बड़ी कंपनी या छोटी सभी में आगंतुकों के आदर सत्कार के लिए रिसेप्निष्ट के तौर पर महिला को ही भरती किया जाता है क्यों ?एयर होस्टेस के पद पर महिला ही क्यों ?

मेरे नवीनतम समाजिक और राजनैतिक  लेख अब वेबसाइट WWW.JARASOCHIYE.COM पर भी उपलब्ध हैं,साईट पर आपका स्वागत है.

*SATYA SHEEL AGRAWAL*नारी उत्थान अभियान
* (blogger)*

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग