blogid : 954 postid : 816

क्रांति नहीं—विद्रोह 2. कोयला ही हीरा बन सकता है |

Posted On: 23 May, 2011 Others में

Dharm & religion; Vigyan & Adhyatm; Astrology; Social researchDharm & Religion- both are not the same; Vigyan & Adhyatm - Both are the same.....

Er. D.K. Shrivastava Astrologer

157 Posts

309 Comments

कोयला ही रूपांतरित होकर हीरा बन जाता है | हीरे और कोयले के बुनियादी रूप में कोई फर्क नहीं है | लेकिन कोयले की कोई कीमत नहीं है | उसे घर में कोई रखता भी है तो ऐसी जगह की नजर न पड़े और हीरे को छाती पर लटका कर घूमते हैं | कोयले की शक्ति ही हीरा बनती है | अगर आप कोयले के दुश्मन हो गए तो हीरे के पैदा होने की सम्भावना ही समाप्त हो जाएगी क्योकि कोयला ही हीरा बन सकता है |

सेक्स की शक्ति ही, काम की शक्ति ही प्रेम बनती है, लेकिन उसके बिरोध में सारे दुश्मन हैं उसके, फिर प्रेम शून्य क्यों न हो |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 2.60 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग