blogid : 954 postid : 846

डर लगता है |

Posted On: 3 Jan, 2012 Others में

Dharm & religion; Vigyan & Adhyatm; Astrology; Social researchDharm & Religion- both are not the same; Vigyan & Adhyatm - Both are the same.....

Er. D.K. Shrivastava Astrologer

157 Posts

309 Comments

पीठ पीछे हुवे वार से डर लगता है,
मुझे हर दोस्त से हर यार से डर लगता है |

चाहे पत्नी हो या प्रेमिका अथवा गणिका,
प्यार की शैली में व्यापार से डर लगता है |

कोई तलवार न काट पाई जिसको,
वक्त के नदियाँ के उस धार से डर लगता है |
मुझे हर ……. पीठ पीछे ……..

हम चमत्कारों में विश्वास तो करते है मगर,
हम गरीबो को चमत्कार से डर लगता है |
पीठ……….मुझे………..

संविधानो की भी रक्षा न कर पाए जो,
मूकदर्शक बनी इस सरकार से डर लगता है
पीठ……..मुझे………………

धीरज कुमार
07.09.2009, हिंदी पखवाडा, RTTC, नागपुर.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग