blogid : 14460 postid : 894966

शर्म उनको नहीं तो तुझे क्यों है?

Posted On: 28 May, 2015 Others में

Features and ArticlesJust another weblog

Shailja Srivastava

11 Posts

7 Comments

तल्ख़ तेवर तेरा देखना चाहती हूँ…
तेरे दिल के घावों को सबको दिखाना चाहती हूँ …
यूँ दबी सहमी सी कब तक रहोगी ?
यूँ पर्दों में कब तक छिपोगी ?
कभी तो जरा तू नजरें उठा
कभी तो बन बेशर्म ज़रा
बता इस ज़माने को
तू भी एक मिसाल है
हैं तल्खियाँ तेरे मन में भरी
हैं वेदनाएं तेरी आँखों में भी
हैं बगावत इस ज़माने की रूढ़ियों से
हैं जस्बात तेरे मन में भी
फबकियां सुन ना बहुत हो गया
रोना-धोना बहुत हो गया
कैंडल मार्च से कुछ नहीं होगा
पलट के अब तू बरस जा जरा
नफ़ाज़त और हिफाज़त को छोड़
अब दुनिया को अपना रूप दिखला ज़रा
शर्म उनको नहीं तो तुझे क्यों है?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग