blogid : 14516 postid : 1167755

चहकते हैं नयनों में प्राण

Posted On: 19 Apr, 2016 Others में

saanjh aaiJust another weblog

shakuntlamishra

61 Posts

144 Comments

चहकते हैं नयनों में प्राण
कौन गाये अब दुःख के गान ?
है श्वासों में द्रुत ,
झंकृत तार |
ह्रदय के वर्ण
,
अविनश्वर आज |
रे चिरकालिक
के संचित ज्ञान
बता जीवन है कैसी प्यास ?
है अवगाहित जीवन की ज्योत

निर्मल कलकल में बंधा विश्व |
हैं वर्ण चमत्कृत ,मन -स्वर -तार |
कौन गाये अब दुःख के गान ?

शकुन्तला मिश्रा -चहकते हैं नयनों में प्राण

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग