blogid : 14516 postid : 779892

तुम इसी से गुजरना

Posted On: 3 Sep, 2014 Others में

saanjh aaiJust another weblog

shakuntlamishra

61 Posts

144 Comments

मैंने तुम्हारे लिए एक द्वार खोला है
जो उजाले से जाकर मिलता है !
तुम इसी से होकर गुजरना
तुम यही पर आना !
अंधकार बड़ा गहरा है
असुरक्षित खाई है !
वो तुम्हारा पथ नहीं है !
तुम्हारी सुरक्षा के लिए ,
जीवटता के लिए ,
उत्तम भावना के लिए
मैंने एक राह खोली है
जो आसमा की ओर जाता है ,
तुम यही से होकर चलना !
मेरे तजुर्बे का निचोड़ ,
हर तकरीर की तहरीर ,
मेरे ख़्वाबों की तावीर
बनाता है ये द्वार !
तुम इसी से गुजरना !
तुम इसी से गुजरना !!

तुम इसी से गुजरना -शकुन्तला मिश्रा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग