blogid : 14516 postid : 869869

पथिक

Posted On: 13 Apr, 2015 Others में

saanjh aaiJust another weblog

shakuntlamishra

61 Posts

144 Comments

पथिक कहाँ जाते हो ?
बताओ तो !
मुझ पर विश्वास करो !
मैं इसी श्रिष्टि का आदमी हूँ !
मैं यहाँ रहा हूँ ,अकेला बिना साथी के !

मेरी आँखों में आवेश है तड़प का ,स्वप्न का ,भूख का !
जब मैं यहाँ आया ,मा ने मुझे वाँसुरी दी थी !
बहुत दिन तक मैं उसे एकांत में बजता रहा ,
मैंने स्वर सीख लिया “क्लीं” निकाला !
मृत्यु को जीत कर कर्म हीन जीवन को तरंग दिया
!
इस महा गीत से सैकड़ो का असंतोष मिट गया !
इस वृहद संसार के दुःख को मिटाता गया !
अपने दुःख सुख ,स्वार्थ से खुद को बचाता गया !

pathik  shakuntla mishra

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग