blogid : 14516 postid : 794261

बड़े भाग्य की बात .....

Posted On: 14 Oct, 2014 Others में

saanjh aaiJust another weblog

shakuntlamishra

61 Posts

144 Comments

बड़े भाग्य की बात !
मथ रहा सिंधु !
है भारत आज !
है सर्प रहा फुप्कार ,जले संसार !
तुम रुको !!!
पियूष आएगा !
समझा दो उनको –
फिर से न चुरा कर पी लें सुधा हमारी !
इस बार जहर भी उनको पीना होगा ,
जो मिला सामने शत्रु तो मरना होगा !
हिम के शिखरों से आज उठी है ज्वाला ,
तांडवी तेज ने दी है धर्म की हाला !
संसार हमारा धीर ,धर्म देखेगा ,
हर भारत वासी नई नीति खेलेगा !

मंदिर ,मस्जिद ,गिरजा और गुरुद्वारों में ,
जब मिले काल गलियो में या शहरों में !
जय महाकाल !सत श्री अकाल !!
हम नहीं दीन, दुर्बल , मराल !

जन-जन के भीतर नई क्रान्ति बोलेगी ,
हर शहर ,गाँव और गली शांति डोलेगी !
विज्ञान भी अब हम धर्म के साथ गढ़ेंगे ,
“इसरो ” के संत नया इतिहास लिखेंगे
!
खुशहाली ,हरियाली और धर्म के पालक ,
भारत का बूढा ,बच्चा और हर बालक !!

शकुन्तला मिश्रा -बड़े भाग्य की बात

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग