blogid : 14516 postid : 1112814

शरद पूर्णिमा

Posted On: 4 Nov, 2015 Others में

saanjh aaiJust another weblog

shakuntlamishra

61 Posts

144 Comments

रुद्ध है आराधन का द्वार
सफल होगा कैसे आह्वान
मेरे उर का यह सिंधु अथाह
जग दी फिर दर्शन की चाह !
कौन रोकेगा मेरी चाह ?
ह्रदय में चलने दो यह राग
एक पल को तो जागे भाग
वेदना में भी जीवन आग
तपूंगी मैं पीड़ा के बीच
मिटाये कौन मेरा एकांत ?
वेदना के सन्मुख है पर्व
मुझे दारुण दुःख देता आज
आज है महारास की रात
आज करना है कल्मष दाह
देवता भी देखंगे आज
पूर्ण होंगे सबके अरमान
चांदनी थिरक रही मधुवन
जले हैं अम्बर दीप अनंत
चीर कर आज निशा का अंध
चाँद भी उतरा धरती मध्य
उभर आया है आज ये मन्त्र
हो गया जीव आत्म निस्पंद

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग