blogid : 12172 postid : 746689

कहे ये जिंदगी पैहम -न कोशिश ये कभी करना .

Posted On: 16 Oct, 2015 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

788 Posts

2130 Comments

………………………………………………………..

दुखाऊँ दिल किसी का मैं -न कोशिश ये कभी करना ,

बहाऊँ आंसूं उसके मैं -न कोशिश ये कभी करना.

…………………………………………………………..

नहीं ला सकते हो जब तुम किसी के जीवन में सुख चैन ,

करूँ महरूम फ़रहत से-न कोशिश ये कभी करना .

……………………………………………………

चाहत जब किसी की तुम नहीं पूरी हो कर सकते ,

करो सब जो कहूं तुमसे-न कोशिश ये कभी करना .

……………………………………………………….

किसी के ख्वाबों को परवान नहीं हो तुम चढ़ा सकते ,

हक़ीकत इसको दिखलाऊँ-न कोशिश ये कभी करना .

……………………………………………………

ज़िस्म में मुर्दे की जब तुम सांसे ला नहीं सकते ,

बनाऊं लाश जिंदा को-न कोशिश ये कभी करना .

………………………………………………….

समझ लो ”शालिनी ”तुम ये कहे ये जिंदगी पैहम ,

तजुर्बें मेरे अपनाएं-न कोशिश ये कभी करना .

…………………………………………….

शालिनी कौशिक

[कौशल]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग