blogid : 12172 postid : 895713

खादिम है तेरा खाविंद ,क्यूँ सिर चढ़े पड़ी हो .

Posted On: 29 May, 2015 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

789 Posts

2130 Comments

क्यूँ खामखाह में ख़ाला,खारिश किये पड़ी हो ,

खादिम है तेरा खाविंद ,क्यूँ सिर चढ़े पड़ी हो .

…………………………

ख़ातून की खातिर जो ,खामोश हर घड़ी में ,

खब्ती हो इस तरह से ,ये लट्ठ लिए पड़ी हो .

…………………………………………..

खिज़ाब लगा दिखते,खालू यूँ नौजवाँ से ,

खरखशा जवानी का ,किस्सा लिए पड़ी हो .

…………………………………………..

करते हैं खिदमतें वे ,दिन-रात लग तुम्हारी ,

फिर क्यूँ न मुस्कुराने की, जिद किये पड़ी हो .

…………………………………………..

करते खुशामदें हैं ,खुतबा पढ़ें तुम्हारी ,

खुशहाली में अपनी क्यूँ,खंजर दिए पड़ी हो .

…………………………………………..

खिलवत से दूर रहकर ,खिलक़त को बढ़के देखो ,

क्यूँ खैरियत की अपनी ,खिल्ली किये पड़ी हो .

…………………………………………..

ऐसे खाहाँ की खातिर ,रोज़े ये दुनिया रखती ,

पर खामख्याली में तुम ,खिसियाये हुए पड़ी हो .

…………………………………………..

खुद-इख़्तियार रखते ,खुसिया बरदार हैं फिर भी ,

खूबी को भूल उनकी ,खटपट किये पड़ी हो .

…………………………………………..

क्या जानती नहीं हो ,मजबूरी खुद खसम की ,

क्यूँ सारी दुख्तरों को ,सौतन किये पड़ी हो .

…………………………………………..

”शालिनी ” कहे खाला,खालू की कुछ तो सोचो ,

चढ़ते वे कैसे ऊपर ,जब बेंत ले पड़ी हो .

…………………………………………..

शालिनी कौशिक

[WOMAN ABOUT MAN]

शब्दार्थ :-खाविंद-पति ,खातून-पत्नी ,खाला-मौसी ,खालू-मौसा खारिश -खुजली ,खुसिया बरदार -सभी तरह की सेवा करके खुश रखने वाला ,खर खशा-व्यर्थ का झगडा ,खाहाँ-चाहने वाला ,खिलवत -एकांत ,खिलक़त-प्रकृति ,खामख्याली -नासमझी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग