blogid : 12172 postid : 682283

खुलासा अपनी हसरत का ,है भाया कब मुखालिफ को [contest ]

Posted On: 6 Jan, 2014 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

788 Posts

2130 Comments

ज़रा सा मुंह मैंने खोला,लगी बर-बर मुखालिफ को ,
आईना रख दिया आगे ,आ गया गश मुखालिफ को .
…………………………………………………………………..
अभी तक मेरी आवाज़ें ,थी चाहत जिनकी सुनने की ,
गिरी हैं बिजलियाँ उन पर ,कहा जो सच मुखालिफ को .
……………………………………
कभी कहकर के कठपुतली ,कभी मौनी बाबा कहकर ,
उड़ाते हैं मेरी खिल्ली ,याद क्या सब मुखालिफ को .
…………………………..
चुभे हैं मुझको जो नश्तर ,उन्हीं का है असर देखो ,
विवश होकर ज़हर पीकर ,कहा सब कुछ मुखालिफ को .
………………………………………….
ये दिल से चाहे दुनिया में ,ज़ुदा इंसान की राहें ,
खुलासा अपनी हसरत का ,है भाया कब मुखालिफ को .
………………………………………
संभाला मुल्क है हमने ,कभी तन्हा कभी मिलकर ,
भरोसा जिसपर जनता का ,उसी पर शक़ मुखालिफ को .
……………………………
साज़िशी फितरतें रखकर ,लगाएं ज़िंदगी में आग ,
”शालिनी ”भी दहल उठती ,देखकर इस मुखालिफ को .
…………..
शालिनी कौशिक
[कौशल ]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग