blogid : 12172 postid : 823179

झलकाई मर्दानगी तेजाब फैंककर .

Posted On: 26 Dec, 2014 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

789 Posts

2130 Comments

झुलसाई ज़िन्दगी ही तेजाब फैंककर ,

दिखलाई हिम्मतें ही तेजाब फैंककर .

………………………………………………………………..

अरमान जब हवस के पूरे न हो सके ,

तडपाई  दिल्लगी से तेजाब फैंककर .

…………………………………………………………………..
ज़ागीर है ये मेरी, मेरा ही दिल जलाये ,

ठुकराई मिल्कियत से तेजाब फैंककर .

……………………………………………………………………………
मेरी नहीं बनेगी फिर क्यूं बने किसी की,

सिखलाई बेवफाई तेजाब फैंककर .

………………………………………………………………………..
चेहरा है चाँद तेरा ले दाग भी उसी से ,

दिलवाई निकाई ही तेजाब फैंककर .

…………………………………………………………
देखा है प्यार मेरा अब नफरतों को देखो ,

झलकाई मर्दानगी तेजाब फैंककर .

…………………………………………………………
शैतान का दिल टूटे तो आये क़यामत ,

निपटाई हैवानगी तेजाब फैंककर .

……………………………………………………………….
कायरता है पुरुष की समझे बहादुरी है ,

छलकाई बेबसी ही तेजाब फैंककर .

…………………………………………………………….
औरत न चीज़ कोई डर जाएगी न ऐसे ,

घबराई जवानी पर तेजाब फैंककर .

………………………………………………………..
उसकी भी हसरतें हैं ,उसमे भी दिलावरी ,

धमकाई बेसुधी ही तेजाब फैंककर .

……………………………………………………..
चट्टान की मानिंद ही है रु-ब-रु-वो तेरे ,

गरमाई ”शालिनी” भी तेजाब फैंककर .

……………………………………………………….
शालिनी कौशिक

[कौशल]


शब्दार्थ  :ज़ागीर -पुरुस्कार स्वरुप राजाओं महाराजाओं द्वारा दी गयी ज़मीन ,मिल्कियत-ज़मींदारी ,निपटाई -झगडा ख़त्म करना ,निकाई-खूबसूरती


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग