blogid : 12172 postid : 755221

नहीं इंसान के वश में .

Posted On: 16 Jun, 2014 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

788 Posts

2130 Comments

आंसू पीकर मुस्कुराना ,नहीं इंसान के वश में ,
ठोकर खाकर हँसते जाना ,नहीं इंसान के वश में .
………………………………………………………………………………
संभलने की कोशिशें लाख ,भले ही हम यहाँ कर लें ,
ज़ख्म की टीस को सहना ,नहीं इंसान के वश में .
………………………………………………………………………
कलेजा हो रहा छलनी ,फरेब देख अपनों के ,
मगर खुलकर ये सब कहना ,नहीं इंसान के वश में .
…………………………………………………………………
हमारे जज़्बातों से खेलना ,फितरत में है जिनकी ,
उन्हीं के जैसे हो जाना ,नहीं इंसान के वश में .
……………………………………………………………..
बहाये जा यूँ ही आंसू ,यही है किस्मत ‘शालिनी ‘
कभी दुःख से निकल पाना ,नहीं इंसान के वश में .
………………………………………………………
शालिनी कौशिक
[कौशल ]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग