blogid : 12172 postid : 915808

बसाने में एक बगिया , कई जीवन लग जाते हैं .

Posted On: 21 Jun, 2015 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

788 Posts

2130 Comments

सरकशी बढ़ गयी देखो, बगावत को बढ़ जाते हैं ,
हवाओं में नफरतों के गुबार सिर चढ़ जाते हैं .
…………………………………………………………………
मुहब्बत मुरदार हो गयी,सियासी चालों में फंसकर ,
अब तो इंसान शतरंज की मोहरें नज़र आते हैं.
………………………………………………………………..
मुरौवत ने है मोड़ा मुंह ,करे अब क़त्ल मानव को ,
सियासत में उलझते आज इसके कदम जाते हैं .
………………………………………………………………
हुई मशहूर ये नगरी ,आज जल्लाद के जैसे ,
मसनूई दिल्लगी से नेता, हमें फांसी चढाते हैं .
………………………………………………………………..
कभी महफूज़ थे इन्सां,यहाँ जिस सरपरस्ती में ,
सरकते आज उसके ही ,हमें पांव दिख जाते हैं .
………………………………………………………………….
सयानी आज की नस्लें ,नहीं मानें बुजुर्गों की ,
रहे जो साथ बचपन से ,वही दुश्मन बन जाते हैं .
………………………………………………………………….
जलाते फिर रहे ये आशियाँ ,अपने गुलिस्तां में ,
बसाने में एक बगिया ,कई जीवन लग जाते हैं .
……………………………………………………………….
उभारी नफरतें बढ़कर ,सियासत ने जिन हाथों से ,
उन्हीं को सिर पर रखकर ,हमें हिम्मत बंधाते हैं .
……………………………………………………………………….
लगे थे जिस जुगत में ”शालिनी”के ये सभी दुश्मन ,
फतह अपने इरादों में ,हमारे दम पर पाते हैं .
………………………………………………………………
शब्दार्थ-मुरदार -मरा हुआ ,बेजान ,
मसनूई -बनावटी ,दिल्लगी-प्रेम ,सरकशी-उद्दंडता ,सरपरस्ती -सहायता .

शालिनी कौशिक
[कौशल ]

…………………………………………………………..

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग